नंदीग्राम घटना में 10 साल से 11 लोग लापता

  • मुख्यमंत्री ने दिया सीआईडी जांच के निर्देश

पूर्व मिदनापुर, समाज्ञा रिपोर्टर

 नवंबर 2007 में नंदीग्राम में ऑपरेशन सूर्योदय शुरू किया गया था। तब से ग्यारह लोग अभी तक लापता है। ऑपरेशन सूर्योदय के शुरू होने के बाद तो कई बार सूर्य उदय भी हुआ और अस्त भी। लेकिन अभी तक उन 11 लोगों का कोई खबर नहीं मिली है। घटना के दस साल बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सीआईडी को नंदीग्राम से गायब 11 लोगों की जांच का निर्देश दिया है। बुधवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पूर्व मिदनापुर से यह घोषणा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि नंदीग्राम घटना में लगभग 11 लोग अभी भी लापता हैं। हमने सीआईडी को इस घटना की जांच के लिए कहा है। सीआईडी ने जांच शुरू कर दी है। गौरतलब है कि रासायनिक हब के लिए जमीन पर कब्जा करने के विरोध में नंदी ग्राम के लोगों ने आंदोलन किया था।

उस समय वाम मोर्चा सरकार ने नंदीग्राम के काउंटर में एक रासायनिक हब बनाने की तैयारी कर रहा थे। ग्रामीणों के साथ पुलिस की संघर्ष, भूमि पर कब्जा करने के लिए हुई थी। यह घटना इतिहास में खूनी घटना के रूप से जाना जाता है। नंदीग्राम की घटना ने तृणमूल सरकार और मुख्यमंत्री ममता बंदोपाध्याय की नींव को मजबूत कर दिया था। नवंबर 2007 में सीपीएम ने प्रदर्शनकारियों के आंदोलन को रोकने के लिए उनपर हमला किया था। इस घटना में कुछ लोग गायब हो गये थे। घटना के दस साल बाद सीआईडी ने लापता हुए लोगों की जांच का निर्देश दिया गया है। मंत्री श्‍वेन्दू अधिकारी ने इस मामले को पूर्व मिदनापुर की प्रशासनिक बैठक में उठाया है। दस साल बाद इनकी खोज शुरू हुई है। 14 मार्च 2007 की जांच में सीबीआई ने पहले ही कई चार्जशीट दायर कर चुकी हैं। मुख्यमंत्री ने नंदीग्राम के लोगों को एक संदेश दिया है कि उन्होंने लापता हुए लोगों की जांच का आदेश दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *