IND vs NZ: 52 साल में पहली बार न्यूजीलैंड में जीत का चौका लगाने उतरेगा भारत

न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले ही सीरीज जीत चुकी भारतीय टीम की नजरें ‘क्लीन स्वीप’ पर हैं. वहीं, वनडे क्रिकेट में तीन दोहरे शतक बना चुके रोहित कार्यवाहक कप्तान के रूप में अपने उम्दा रिकॉर्ड को कायम रखना चाहेंगे. सेडॉन पार्क की बल्लेबाजों की मददगार पिच पर न्यूजीलैंड के लिए फॉर्म में चल रहे भारतीय बल्लेबाजों पर अंकुश लगाना आसान नहीं होगा. कीवियों के खिलाफ गुरुवार को पांच मैचों की सीरीज के चौथे मैच में उतरते ही रोहित अपने करियर के 200 वनडे पूरे कर लेंगे. यह मैच भारतीय समयानुसार सुबह 7.30 से खेला जाएगा.

भारत अगर 4-0 की बढ़त बना लेता है, तो किसी भी प्रारूप में 52 साल में न्यूजीलैंड में यह उसकी सबसे बड़ी सीरीज जीत होगी. भारत ने पहली बार 1967 में न्यूजीलैंड का दौरा किया था. उस दौरे में भारत ने टेस्ट सीरीज 3-1 (4) से जीती थी. भारत ने 2009 में कीवियों को वनडे सीरीज में 3-1 (5) से मात दी थी. फिलहाल मौजूदा वनडे सीरीज में भारत को 3-0 से अजेय बढ़त हासिल है.

इस सीरीज के बाकी दो मैचों में भारत के पास अपनी बेंच स्ट्रेंथ को आजमाने का सुनहरा मौका है. महेंद्र सिंह धोनी की मांसपेशी की चोट के बारे में अभी कोई जानकारी नहीं है, लेकिन टीम सूत्रों के अनुसार चिंता की कोई बात नहीं है. उनकी उपलब्धता के बारे में फैसला मैच वाले दिन ही लिया जाएगा.

धोनी के खेलने पर वह विराट कोहली की जगह लेंगे, जिन्हें बाकी मैचों में आराम दिया गया है. वैसे प्रतिभाशाली शुभमन गिल को भी सीनियर टीम की जर्सी पहनने का मौका दिया जा सकता है. क्रिकेट पंडित उनके स्ट्रोक्स में विराट कोहली के शॉट्स की झलक देखते हैं.

कोहली ने माउंट माउंगानुई में जीत के बाद कहा था,‘जब मैं 19 साल का था तो शुभमन का 10 प्रतिशत भी नहीं था.’ कोहली से तारीफ सुनने के बाद कोच रवि शास्त्री और रोहित उसे चौथे नंबर पर मौका दे सकते हैं जहां अंबति रायडू चमत्कारिक प्रदर्शन नहीं कर सके हैं.

गिल और धोनी दोनों के खेलने पर दिनेश कार्तिक को आराम दिया जा सकता है. गेंदबाजी में कुलदीप यादव आठ और युजवेंद्र चहल छह विकेट ले चुके हैं. दो बार मैन ऑफ द मैच रह चुके मोहम्मद शमी को आराम दिया जा सकता है, जो ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज की शुरुआत के बाद से लगातार खेल रहे हैं.

शमी को आराम देने पर खलील अहमद या मोहम्मद सिराज को मौका मिल सकता है. न्यूजीलैंड के लिए यह सीरीज हर विभाग में निराशाजनक रही है. उसके बल्लेबाज कुलदीप और चहल की गेंदों को पढ़ नहीं पा रहे. शमी भी पहले स्पेल में काफी प्रभावी रहे हैं.

केन विलियमसन अच्छी शुरुआत को बड़ी पारियों में नहीं बदल पाए. वहीं मार्टिन गप्टिल फ्लॉप रहे हैं. टॉम लाथम और रॉस टेलर लगातार अच्छा प्रदर्शन करने में नाकाम रहे. गेंदबाजी में ट्रेंट बोल्ट को दूसरे छोर से सहयोग नहीं मिल रहा है. तेज गेंदबाज डग ब्रेसवेल और लेग स्पिनर ईश सोढ़ भी नहीं चल पाए. हरफनमौला जेम्स नीशाम को टीम में शामिल किया गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *