बंगाल संग केंद्र का सौतेला व्यवहार : ममता

-कहा, जनता का फंड रोका
-पूछा, ये योगी हैं या भोगी
-रथ यात्रा पर सवाल उठाया

कोलकाता / सागरद्वीप : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि केंद्र पश्‍चिम बंगाल के साथ सौतेला व्यवहार कर रहा है। सागरद्वीप में सुंदरवन कप विजेताओं को पुरस्कृत करने के साथ कई परियोजनाओं का उद्घाटन व शिलान्यास करने के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र का काम जनता की सेवा करना है। लेकिन केंद्र जनता के फंड को रोक रहा है। बंगाल में 100 दिन रोजगार योजना के लिए फंड रोक दिया गया है। उन्होंने कहा कि हमने यहां एक बंदरगाह बनाने की मांग की। केंद्र ने 74 फीसदी हिस्सेदारी मांगी तथा लोहापुल बनाने का वादा किया। लेकिन 3 साल बाद भी वादा नहीं निभाया। बंगाल के साथ हमेशा सौतेला व्यवाहर किया जाता है। उन्होंने कहा कि केंद्र का काम राज्यों की मदद करना है, वहां जाकर आग लगाना नहीं। मुख्यमंत्री ने बिना किसी के नाम लिए सवाल किया कि ये योगी हैं या भोगी? हालांकि, इनका निशाना भाजपा ही थी। साथ ही मुख्यमंत्री ने भाजपा की रथ यात्रा पर भी निशाना साधा।
मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि केंद्र फसल बीमा के लिए केवल 20 फीसदी रकम देता है जबकि राज्य 80 फीसदी रकम चुकाता है। फिर भी केंद्र किसानों को गुमराह कर रहा है कि फसल बीमा की पूरी रकम वही देता है। उन्होंने कहा कि आगे से राज्य सरकार किसानों के खाते में सीधे-सीधे रकम ट्रांसफर करेगी। केंद्र के पास 100 दिन रोजगार योजना का 2500 करोड़ रुपए का फंड बकाया है। मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि नोटबंदी के नाम पर केंद्र ने लोगों से रुपए ले लिए। अब चुनाव में वह उन्हीं रुपयों का इस्तेमाल करेगा। उन्होंने कहा कि वे अपने धर्म का पालन करतीं हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि दूसरे धर्म का अनादर किया जाय।

योगी या भोगी : मुख्यमंत्री ने कहा कि हिंदु धर्म सनातन है। रामकृष्ण व विवेकानंद का जन्म भाजपा के बनने से काफी पहले हुआ था। क्या वे(भाजपा) योगी हैं या भोगी? वे कैसे किसी को निर्देश दे सकते हैं कि कौन किस धर्म का पालन करेगा? उन्होंने कहा कि हम सभी धर्म व सब देवताओं का बराबर सम्मान करते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस्कन भी जगन्नाथ रथ यात्रा निकालता है, लेकिन लोगों को मारने के लिए नहीं। लेकिन वे जो लोगों को मारने के लिए यात्रा निकालते हैं, वे दंगा यात्रा में लिप्त होते हैं जबकि भगवान कृष्ण व भगवान जगन्नाथ के लिए यात्राएं निकाली जाती हैं।

ज्ञानदास फिर ममता संग : इस बीच बुधवार को ममता बनर्जी के पीएम बनने की वकालत कर चुके मंहत ज्ञानदास ने एक बार फिर कहा कि ममता प्रधानमंत्री बनी तो देश का कल्याण होगा। भाजपा को निशाने पर लेते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा को राम मंदिर केवल चुनाव के समय ही याद आता है। यह उनके लिए चुनावी मसाला है। ज्ञानदास ने कहा कि ममता के पीएम बनने पर ही मंदिर बन सकेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *