12 अरब डॉलर में फ्लिपकार्ट-वॉलमार्ट के बीच ‘सौदेबाजी’, विक्रेता अधर में

रीटेल सेक्टर की बड़ी अमेरिकी कंपनी वॉलमार्ट भारत की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट के अधिग्रहण करने की तैयारी में है. सौदेबाजी के लिए बातचीत अंतिम चरण में है. सूत्रों के मुताबिक जल्द ही इसकी आधिकारिक घोषणा की जा सकती है. पूरे मामले से जुड़े एक सूत्र के हवाले से छपी रिपोर्ट्स के मुताबिक वॉलमार्ट, फ्लिपकार्ट में 72-73% हिस्सेदारी खरीद सकती है. ये सौदा करीब 12 अरब डॉलर (करीब 8 खरब रुपये) में हो सकती है. 

सौदे के प्रारूप को अंतिम रूप दिया जा चुका है. इस पर दोनों कंपनियों के निदेशक मंडल से अनुमति भी ली जाएगी. मीडिया रिपोर्ट्स में सूत्र ने अपनी पहचान जाहिर करने से मना कर दिया, क्योंकि अभी बातचीत जारी है और यह बेहद गोपनीय है. उधर, ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक फ्लिपकार्ट ऑनलाइन सर्विसेज ने अपनी करीब 75% हिस्सेदारी वॉलमार्ट के नेतृत्व वाले समूह को 15 अरब डॉलर में बेचने के समझौते पर हस्ताक्षर कर दिए हैं.

परेशानी में विक्रेता

फ्लिपकार्ट और वॉलमार्ट के बीच 12 अरब डॉलर के सौदे के लिए चल रही बातचीत ने फ्लिपकार्ट के प्लेटफार्म पर सामान बेचने वाले विक्रेताओं को परेशानी में डाल दिया है. मौजूदा बातचीत और उससे इससे कारोबार पर पड़ने वाले संभावित असर को लेकर विक्रेता अधर में हैं. विक्रेता इस सौदेबाजी को लेकर स्पष्टता चाहते हैं क्योंकि उन्हें भी अपने कारोबार को उसी तरह ढालने की जरूरत होगी.

अखिल भारतीय ऑनलाइन विक्रेता संघ (एइओवा) के प्रवक्ता के अनुसार विक्रेता समुदाय को अभी तक सौदेबाजी के बारे में कोई जानकारी नहीं मिली है जबकि ये कई महीनों से चल रही है. गौरतलब है कि अमेजन और फ्लिपकार्ट पर बिक्री करने वाले करीब 3,500 विक्रेता इस संघ के सदस्य हैं.

प्रवक्ता ने कहा कि फ्लिपकार्ट या अन्य पक्ष की ओर से इस संबंध में हमसे कोई बातचीत नहीं की गई है. हम यह समझते हैं कि सौदे की बातचीत निजी होती है. लेकिन इसने हमें अंधेरे में रखा है, हमारा इस प्लेटफॉर्म पर भविष्य क्या होगा. हम इस पर स्पष्टता चाहते हैं ताकि हम उसके अनुसार योजना बना सकें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *