समाज्ञा

महिलाओं को लुभाने में जुटी मोदी सरकार, GST काउंसिल के फैसले से मिले संकेत

बीते कुछ समय से मोदी सरकार महिलाओं के हित में फैसले लेती नजर आ रही है. हाल ही में सरकार ने तीन तलाक बिल के जरिए मुस्लिम महिलाओं को आवाज देने का काम किया तो हलाला और बहुविवाह के मुद्दे पर भी प्रयासरत है. वहीं अब सैनेटरी नैपकिन को जीएसटी फ्री कर महिलाओं को बड़ी राहत दी है.  

दरअसल, शनिवार को जीएएसटी काउंसिल की बैठक में महिलाओं के हित में कई बड़े फैसले लिए गए. इसी के तहत काउंसिल ने सैनेटरी नैपकिन को जीएसटी के दायरे से बाहर कर दिया. पहले इस प्रोडक्‍ट पर 12 फीसदी का जीएसटी लगता था.

यही नहीं, काउंसिल ने भाई-बहनों के पवित्र त्‍योहार रक्षाबंधन को ध्‍यान में रखते हुए राखी को भी जीएसटी के दायरे से बाहर रखा है. इसके अलावा महिलाओं के लिए ज्‍वैलरी, हेयर ड्रायर, परफ्यूम और हैंड बैग में भी राहत दी गई है. ये प्रोडक्‍ट पहले 28 फीसदी के जीएसटी स्‍लैब में थे जो अब 18 फीसदी के जीएसटी स्‍लैब में आ गए हैं. इस लिहाज से 10 फीसदी की कटौती है.  

लंबे समय से हो रही थी मांग

सैनेटरी नैपकिन पर 12 फीसदी की दर से जीएसटी लगाने का भारी विरोध हो रहा था. कई महिला संगठन काफी समय से इस पर जीएसटी घटाने या कम करने की मांग कर रहे थे.

अक्षय कुमार ने जताई खुशी

सैनेटरी नैपकिन को जीएसटी फ्री करने के फैसले का बॉलीवुड एक्‍टर अक्षय कुमार ने स्‍वागत किया है. उन्‍होंने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा- एक ऐसा दिन जब एक खबर सुनकर आपकी आंखों से ख़ुशी के आंसू छलक उठें क्योंकि आपका एक सपना पूरा हो गया. थैंक यू जीएसटी काउंसिल जो आपने मेनस्ट्रल हाइजीन की समस्या को गंभीरता से लिया और इस पर से टैक्स हटा लिया. मैं जानता हूं कि आज अंदर ही अंदर देश की कई महिलाएं इस फैसले से बेहद खुश हो रही होंगी. बता दें कि अक्षय कुमार ने इसी साल सैनेटरी पैड्स के मुद्दे पर ‘पैडमैन’ नामक फिल्‍म की थी. इस फिल्‍म के प्रमोशन के दौरान अक्षय कुमार ने सैनेटरी नैपकिन को जीएसटी फ्री करने की मांग की थी.