एक रुपये के सिक्के को बनाने पर 1.11 रुपये आता है खर्च, RTI से खुलासा

भारत में बीते कुछ दशक से सिक्कों का मूल्य लगातार घटता गया है. अब सिक्के से बहुत कम ही चीज़ें ऐसी होंगी जो खरीदी जा सकती हो. खास तौर पर कम मूल्य वाले सिक्कों से.  हर कोई जानता है कि सिक्के का मूल्य क्या है क्योंकि वो उसी पर ही उकेरा रहता है. लेकिन क्या आपने कभी इस पर हैरानी जताई है कि सिक्के को बनाने पर लागत कितनी आती है? क्या ये लागत सिक्के के मूल्य से ज़्यादा भी हो सकती है?

सिक्कों की लागत से जुड़ी इस पहेली को सुलझाने के लिए इंडिया टुडे ने सूचना के अधिकार (RTI) के तहत भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) से जानकारी मांगी.हमने RBI से ये भी जानना चाहा कि मौजूदा वक्त में किस किस मूल्य के सिक्कों का भारत सरकार की ओर से निर्माण कराया जा रहा है? बीते 5 साल में ऐसे कितने सिक्के ढाले गए. 

हमारे सवालों को RBI ने देश की सभी टकसालों को भेजा. भारतीय सरकारी टकसाल, मुंबई की ओर से जवाब दिया गया कि मौजूदा वक्त में 10 रु, 5 रु, 2 रु और 1 रु के सिक्कों को ही इस टकसाल में ढाला जा रहा है.  जवाब में बीते 5 साल में टकसाल की ओर से जिन अलग अलग मूल्य के सिक्कों को ढाला गया, उनकी जानकारी भी दी गई. हालांकि इस टकसाल ने सिक्कों पर आने वाली लागत की जानकारी गोपनीयता का हवाला देते हुए देने से इनकार कर दिया. टकसाल ने जवाब में कहा, “ये जानकारी आरटीआई एक्ट, 2005 के सेक्शन  8 (1) (d) के तहत उपलब्ध नहीं कराई जा सकती क्योंकि ये ट्रेड सीक्रेट है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *