Breaking News
Home / News / India / दिल्ली में एक्स, कोलकाता में वाई -कोलकाता

दिल्ली में एक्स, कोलकाता में वाई -कोलकाता

-मुकुल की सुरक्षा बढ़ाने की फैसला

सुशील मिश्रा/कोलकाता

राज्यसभा व तृणमूल से नाता तोड़ चुके पूर्व तृणमूल सांसद मुकुल राय अभी भाजपा में शामिल नहीं हुए हैं। प्रदेश नेता उनके पार्टी में शामिल होने का विरोध कर रहे हैं। लेकिन दिल्ली ने उनके विरोध को अनसुना कर दिया है। दिल्ली ने स्पष्ट कर दिया है कि 2019 लोकसभा चुनाव की वैतरणी वर्तमान प्रदेश नेताओं के भरोसे पार नहीं की जा सकती है, क्योंकि प्रदेश नेताओं में तृणमूल का मुकाबला करने की रणनीतिक व सांगठनिक सुझबुझ नहीं है। दिल्ली के फैसले से प्रदेश नेता हताश एवं निराश हैं। कई नेताओं को अभी से अपने राजनीतिक भविष्य की चिंता सताने लगी है। इस बीच मुकुल की सुरक्षा संबंधी केंद्र सरकार के एक फैसले ने प्रदेश नेताओं की नींद हराम कर दी है। भाजपा सूत्रों का कहना है कि गृह मंत्रालय ने मुकुल को दिल्ली व कोलकाता में 2 तरह की सुरक्षा मुहैया करने का फैसला किया है। मुकुल को दिल्ली में एक्स जबकि कोलकाता में वाई कैटेगरी की सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी। संभावना है सब कुछ ठीक रहा तो 10-15 दिनों के अंदर उन्हें यह सुरक्षा उपलब्ध कराई जा सकती है। पहले ही मुकुल राज्य सरकार की सुरक्षा को वापस कर चुके हैं।

विशेष सूत्रों का कहना है कि गृह मंत्रालय, मुकुल राय की सुरक्षा को लेकर काफी चिंतित है तथा एजेंसियों से मिले इनपूट के आधार पर उनकी सुरक्षा कठोर करने का फैसला लिया है। इसके लिए आवश्यक इनपूट मिलने के बाद मंत्रालय ने स्टेट इंटेलिजेंस को पत्र लिखकर जानकारी मांगी है। एजेंसियों ने भी मुकुल की सुरक्षा पर सवाल खड़ा किया है, क्योंकि वे समर्थकों व आम लोगों से बिना किसी भेदभाव के मिलते हैं। मिलने के लिए पहुंचने वाले किसी भी व्यक्ति को वे निराश नहीं करते तथा बिना राजनीतिक रंग के उसकी बात सुनते व मदद करते हैं। पता चला है कि गृह मंत्रालय ने दिल्ली प्रवास के दौरान मुकुल के लिए स्वचालित हथियार(एक्स कैटेगरी) से लैस एक सुरक्षा कर्मी तैनात करने का फैसला किया है। वहीं, कोलकाता(पश्‍चिम बंगाल) में उनकी राजनीतिक असुरक्षा के मद्दे नजर वाई कैटेगरी की सुरक्षा व्यवस्था देने का फैसला हुआ है। इसके तहत कोलकाता प्रवास के दौरान मुकुल राय 4 स्वचालित हथियारबंद सुरक्षा कर्मियों की पहरेदारी में रहेंगे। इतना ही नहीं, उन्हें कोलकाता में एस्कोर्ट कार भी दिया जाएगा। मुकुल की सुरक्षा दिल्ली के मुकाबले कोलकाता में 4 गुणा बढ़ाने के बारे में हालांकि, सूत्र ने कारण नहीं बताया। उसने कहा कि मुकुल जैसे नेता के लिए सुरक्षा की जरुरत को देखते हुए?फैसला लिया गया है क्योंकि वे जल्द ही राज्य के दौरे पर निकलने वालै हैं। मालूम हो कि एक के बाद एक पार्टी पदों से हटाने की कार्रवाई के बाद मुकुल ने पिछले माह ही राज्य सरकार की सुरक्षा व्यवस्था वापस कर दी थी। तब से वे बिना सुरक्षा के ही दिल्ली-कोलकाता की यात्रा करते थे। लेकिन केंद्र ने अब उन्हें केंद्रीय सुरक्षा देने का फैसला किया है। गृह मंत्रालय के फैसले से स्पष्ट है कि वे जल्द ही भाजपा से जुड़ सकते हैं। अभी तक केवल पूर्व प्रदेश अध्यक्ष व भाजपा के राष्ट्रीय सचिव राहुल सिन्हा को केंद्रीय सुरक्षा मिलती है। प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष को राज्य सुरक्षा प्रदान करती है। 

About Samagya

Check Also

पश्चिम बंगाल ने ओडिशा से जीती रसगुल्ले की ‘जंग’

Share this on WhatsAppरसगुल्ले की शुरुआत पश्चिम बंगाल में हुई या ओडिशा में इसका फैसला …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *