Breaking News
Home / News / उत्तर बंगाल में भारी बारिश

उत्तर बंगाल में भारी बारिश

-पांच जिलों में स्थिति बिगड़ी

-नवान्न में खुला कंट्रोल रूम

-दार्जिलिंग में भूस्थलन से 2 मरे

-सरकार रुद्धस्तर पर निपट रही है

कोलकाता : उत्तर बंगाल में शुक्रवार सुबह से हो रही लगातार भारी बारिश ने कम से कम 5 जिलों में बाढ़ की स्थिति पैदा कर दी है। मालदह, अलीपुरद्वार, न्यू जलपाईगुड़ी-अलीपुरद्वार-सिलीगुड़ी, दार्जिलिंग-कर्सियांग, उत्तर दिनाजपुर में सामान्य जन-जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। घरों में पानी भर गया है। मालदह में मेडिकल कॉलेज-अस्पताल में पानी जमा हो गया है। न्यू जलपाईगुड़ी-अलीपुरद्वार के बीच लगभग 7 किमी. पटरियों पर पानी जमने से रेल परिचालन अस्त-व्यस्त हो गया है। लोगों को सुरक्षित निकालने के लिए सरकार ने संबद्ध जिला कलक्टरों को आदेश दिया गया है। दार्जिलिंग व कर्सियांग में राजमार्ग संख्या 55 पर भूस्खलन तथा डूबने से 4 लोगों के मरने की खबर है जबकि महानदी का जलस्तर खतरे के निशान के पास पहुंचने से सिलीगुड़ी में बाढ़ की आशंका पैदा हो गई है। तोर्सा नदी का लॉके गेट टूटने से बारिश का पानी गांवों में घूस रहा है। रेलवे ट्रैक पर पानी जमने से रेलवे ने कई मेल व एक्सप्रेस ट्रेनों के परिचालन को अस्थाई रूप से रद्द कर दिया है। पश्‍चिम बंगाल सरकार ने बाढ़ पीड़ित जिलों के सभी सरकारी कर्मियों की छुट्टी रद्द कर दी है तथा युद्ध स्तर पर निपट रही है।

ममता ने मुख्य सचिव से की बात : इस बीच उत्तर बंगाल में भारी बारिश से उत्पन्न हालात से निपटने के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अधिकारियों को आदेश दिया है। नवान्न सूत्रों का कहना है कि मुख्यमंत्री ने फोन कर मुख्य सचिव को बचाव व राहत के लिए सभी इंतजाम करने का आदेश दिया। उन्होंने राहत सामग्री तथा दूसरी आवश्यक सेवाएं तैयार रखने के आदेश दिए हैं। सिंचाई मंत्री राजीव बनर्जी ने कहा कि मुख्रमंत्री ममता बनर्जी स्थिति की स्वयं निगरानी कर रही हैं। राहत सामग्री भेजने समेत सभी कदम उठाए जा रहे हैं। बाढ़ से प्रभावित राज्र के पांच जिलों में कूचबिहार, उत्तर दिनाजपुर, अलीपुरद्वार, जलपाईगुड़ी और दार्जिलिंग शामिल हैं। मुख्य सचिव ने जिलों के डीएम के साथ वीडियो कान्फ्रेंसिंग कर स्थिति की जानकारी ली है।

कंट्रोल रूम में मंत्री : इस बीच राज्य सरकार ने शनिवार को कहा कि वह राज्र के उत्तरी क्षेत्र में आई बाढ़ से रुद्ध स्तर पर निपट रही है। यहां पांच जिले प्रभावित हुए हैं। बाढ़ की पाने से करीब 100 चार बागान जलमग्न हो गए हैं। राज्र के सिंचाई मंत्री राजीव बनर्जी ने नवान्न में पत्रकारों से कहा कि हमने पहले ही निरंत्रण कक्ष खोल दिए हैं तथा वे निजी तौर पर निगरानी और प्रबंधन का जिम्मा संभाले हुए हैं। उन्होंने कहा कि फिलहाल राज्र भारी बारिश का सामना कर रहा है। लेकिन आई बाढ़ से निपटने के लिए रुद्ध स्तर पर काम हो रहा है।

58 हजार प्रभावित : मालूम हो कि राज्र के आपदा प्रबंधन मंत्री जावेद खान ने शुक्रवार को ही कहा था कि अलीपुरद्वार, जलपाईगुड़ी और कूचबिहार में बढ़ से लगभग 58,000 लोग प्रभावित हुए हैं। शनिवार को यह संख्या बढ़ी है। उन्होंने कहा कि सरकार ने प्रभावित जिलों में 700 राहत शिविर खोले हैं। लोगों को राहत सामग्री दी जा रही है जो अपने घरों से अस्थारी रूप से बेघर हो गए हैं। उत्तर बंगाल में बाढ़ से 100 चार बागान के जलमग्न होने की खबर है जिससे चार उत्पादन कम होने की आशंका है। पिछले साल दार्जिलिंग को छोड़कर उत्तर बंगाल में चार का उत्पादन करीब 31.5 करोड़ किलो हुआ था।

About Samagya

Check Also

विश्व प्रतिभा रैंकिंग में भारत 51वें स्थान पर

Share this on WhatsApp नयी दिल्ली, प्रतिभाओं को आकर्षित, विकसित और उन्हें अपने यहां बनाए …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *