Breaking News
Home / News / पनबिजली ऊर्जा संरंत्र बंद

पनबिजली ऊर्जा संरंत्र बंद

  • एनएचपीसी ने लिया फैसला
  • छह सौ की भीड़ ने घेरा संयंत्र स्थल 

कोलकाता : अलग गोरखालैंड की मांग पर लगातार बंद व हिंसक आंदोलन का असर अब वहां के विकास पर पड़ने लगा है। पहली बड़ी चोट वहां की पनबिजली संयंत्र पर पड़ा है। दार्जिलिंग के रामदी में राष्ट्रीर पनबिजली विद्युत निगम (एनएचपीसी) के ऊर्जा संरंत्र स्थल के बाहर 600 से अधिक लोगों के विरोध प्रदर्शन करने के बाद एनएचपीसी ने संरंत्र में काम बंद कर दिरा है। एनएचपीसी के एक अधिकारी ने कहा कि 600 से अधिक लोगों की भीड़ के घेराव करने और विरोध प्रदर्शन करने के बाद हमने एहतिरात के तौर पर 132 मेगावाट की तीस्ता लो डैम 3 रोजना का परिचालन बंद करने का फैसला लिरा है।

अधिकारी ने बतारा कि एनएचपीसी के क्षेत्रीय प्रमुख इस मामले पर चर्चा के लिए गुरुवार पश्‍चिम बंगाल ऊर्जा सचिव से मुलाकात करेंगे। उन्होंने कहा कि हमने दार्जिलिंग जिले मेंं एनएचपीसी प्रतिष्ठानों में सुरक्षा बढ़ाने के लिए राज्र ऊर्जा सचिव, मुख्र सचिव और जिला मजिस्ट्रेट को पत्र लिखा है। अधिकारिरों ने बतारा कि एनएचपीसी इकाई की सुरक्षा का आश्‍वासन मिलने के बाद रामदी संरंत्र में ऊर्जा निर्माण फिर से आरंभ करेगा। दार्जिलिंग पहाड़िरों में एनएचपीसी की एक और 160 मेगावाट की तीस्ता लो डैम 4 इकाई है। पृथक गोरखालैंड राज्य की मांग को लेकर बेमिरादी दार्जिलिंग बंद के 28वें दिन कल गोरखालैंड समर्थकों ने एक पंचायत दफ्तर में आग लगा दी थी और कुछ सरकारी वाहनों को नुकसान पहुंचारा था। गोरखालैंड जनमुक्ति मोर्चा (गोजमुमो) ने अशोक तमांग के शव के साथ चौकबाजार में रैली निकाली जिसकी बुधवार रात एक अस्पताल में मौत हो गयी। उसे शनिवार को कथित रूप से पुलिस और जीजेएम समर्थकों के बीच झड़प में घारल होने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

About Samagya

Check Also

क्‍या सरकार 2000 रुपये का नोट बंद कर रही है? विपक्ष के सवाल का मिला ये जवाब

Share this on WhatsAppविपक्षी सदस्यों ने आज राज्यसभा में वित्त मंत्री अरूण जेटली से यह …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *