सेना के बारे में असंवेदनशीलता बर्दास्त नहीं : दिलीप

-शंकु के नेता होने पर ही उठाया सवाल
कोलकाता : प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने सोमवार को कहा कि सेना के बारे में असंवेदनशीलता बर्दास्त नहीं की जाएगी। पत्रकारों से बातचीत में घोष ने कहा कि सेना की असुरक्षा के बारे में सवाल उठा कर गलत परम्परा की शुरुआत हो रही है। यह ठीक नहीं है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी द्वारा सेना की सुरक्षा पर उठाए जा रहे सवाल को भी घोष ने अस्वीकार कर दिया। इस बीच मुकुल राय का हाथ पकड़ कर तृणमूल से भाजपा में शामिल शंकुदेव पंडा होने पर ही घोष ने प्रश्‍नचिन्ह लगा दिया। उन्होंने कहा कि शंकु क्या वाकई नेता हैं?
घोष के बयान से स्पष्ट झलक रहा था कि वे मुकुल राय का हाथ पकड़ कर शंकु देव की भाजपा में प्रवेश से खुश नहीं हैं। उन्होंने कहा कि अभी आंधी उठी है। कई लोग आएंगे। सभी को लेंगे तथा सभी को हजम भी करेंगे। घोष ने कहा कि केंद्रीय नेताओं ने उचित समझा। पहले वे तृणमूल में शामिल थे। उनसे काम करवाने की कोशिश करेंगे। उन्होंने कहा कि गंगा में अच्छा व खराब चीजें बहती रहती हैं। यह पूछने पर कि क्या सीबीआई से बचने के लिए ही शंकुदेव ने भाजपा का दामन थामा, जवाब में घोष ने कहा कि सीबीआई अपना काम करेगी। दोषी को किसी तरह की छूट नहीं मिलेगी। किसी के आने पर हम ना नहीं कह सकते। लखन सेठ भी आए थे लेकिन चले गए। तो क्या आप खुश नहीं, पूछने पर घोष ने कहा कि दुखी भी नहीं हैं। मालूम हो कि कई दफे सीबीआई पूछताछ के बाद तृणमूल कांग्रेस ने शंकु को बाहर का रास्ता दिखा दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *