Breaking News
Home / News / India / मुकुल सारदा मामले को कर रहे प्रभावित : कुणाल,कोलकाता

मुकुल सारदा मामले को कर रहे प्रभावित : कुणाल,कोलकाता

-मांग, सीबीआई गिरफ्तार कर करे पूछताछ

-आरोप, तथ्यों को छिपाया, गोल-गोल बातें की

कोलकाता :  सस्पेंडेड तृणमूल सांसद कुणाल घोष ने अब मुकुल राय के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने आरोप लगाया कि मुकुल द्वारा सारदा चिटफंड घोटाले की जांच प्रभावित की जा रही है तथा वे तथ्यों को छिपा कर केवल गोल-गोल बातें कर रहे हैं। उन्होंने सांसद-पार्टी पद से इस्तीफा केवल स्वयं को प्रभावशाली होने के आरोप से बचने के लिए दिया। कुणाल ने मुकुल को चुनौती देते हुए कहा कि सीबीआई उन्हें मेरे सामने बैठाकर सीबीआई करे। सस्पेंड तृणमूल सांसद कुणाल घोष ने गुरुवार को यह विस्फोटक आरोप लगाया। कुणाल ने मांग की कि सीबीआई मुकुल को गिरफ्तार कर पूछताछ करे, क्योंकि तब वे अखिल भारतीय तृणमूल महासचिव थे। उन्होंने दावा किया कि पार्टी के 12-13 नेता सारदा चिटफंड घोटाले में लिप्त थे। यह संभव नहीं है कि मुकुल को इसकी जानकारी नहीं हो। कुणाल ने मुकुल को राजनीति का बड़ा खिलाड़ी बताया एवं कहा कि उनका तृणमूल में परिवारतंत्र का आरोप भी भ्रामक-सच्चाई से ध्यान हटाने के लिए है। कुणाल ने सवाल किया कि क्या कांचारापाड़ा में शुभ्रांशु के अलावा विधायक की योग्यता वाला कोई दूसरा नहीं था?

मोदी को लिखा पत्र : गुरुवार को कुणाल साल्टलेक ईडी कार्यालय पहुंचे तथा पत्रकारों से बातचीत में कहा कि बुधवार को मुकुल ने केवल इधर-उधर की बातें की। उन्होंने सवाल किया कि आईपीएस मिर्जा द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर सीबीआई उन्हें गिरफ्तार कर क्यों नहीं पूछताछ करती? कुणाल ने अलकेमिस्ट मामले में भी मुकुल पर निशाना साधा । उन्होंने कहा कि पीएम मोदी, अरुण जेटली एवं विजयवर्गीय को पत्र लिखा है जिसमें मुकुल मामले की जांच की मांग की है। उन्होंने कहा कि पत्र में लिखा है कि अगर जांच से बचने के लिए कोई राजनीतिक शरण मांगे तो उसे वह नहीं मिले ।

शुभ्रांशु पर निशाना  : तृणमूल में परिवारतंत्र के मुकुल के आरोप पर कुणाल ने कहा कि आमतौर पर जिस पेशे में पिता होते हैं, बच्चे भी वैसे ही होने की कोशिश करते हैं। पर मुकुल ने तृणमूल में परिवारतंत्र की बात की है। क्या वे इसका जवाब देंगे कि कांचरापाड़ा में शुभ्रांशु से बेहतर विधायक बनने की योग्यता वाले लोग नहीं थे? शुभ्रांशु राय युवा तृणमूल के कार्यकारी उपाध्यक्ष भी थे, यह मुकुल के पार्टी में सेकेंड नेता होने के बिना संभव था? क्या यह परिवारतंत्र नहीं है??कुणाल ने सवाल किया कि मुकुल के साथ भाजपा नेता, अधीर चौधरी या दूसरे नेता मंच साझा कर सकेंगे तो??

About Samagya

Check Also

धर्म को बेचने वाले पसंद नहीं : ममता

Share this on WhatsAppगिरीश पार्क फाइव स्टार स्पोर्टिंग क्लब पूजा पंडाल का किया उद्घाटन कोलकाता, …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *