अब सोने की हर खरीद पर देना पड़ सकता है PAN Card!

अब सोने की हर खरीद पर आपको पैन कार्ड दिखाना पड़ सकता है. कालेधन पर लगाम लगाने और सोने की कालाबाजारी रोकने के लिए मोदी सरकार यह बड़ा फैसला ले सकती है। सरकार द्वारा यह कदम उठाने पर सोने की हर एक खरीद का इलेक्‍ट्रॉनिक तरीके से रजिस्‍ट्रेशन भी किया जा सकता है, ताकि उस पर पूरी नजर रखी जा सके. सरकार की एक वित्तीय समिति ने ये सिफारिशें दी हैं। फिलहाल 2 लाख से ज्यादा के सोने की खरीद पर पैन जरूरी होता है।

टैक्‍स चोरी और कालाबाजारी रोकना है मकसद
सरकार द्वारा गठित फाइनेंशियल पैनल ने कहा है कि टैक्‍स चोरी और कालाबाजारी रोकने के लिए ये उपाय जरूरी हैं. सिफारिशों में सोना खरीदने के लिए हर दिन नकद सीमा को मंजूरी मिलना, हर ट्रांजैक्शन को इलेक्ट्रॉनिक रजिस्ट्री के जरिए रजिस्टर करवाना आदि भी शामिल हैं.गौरतलब है कि सोने के कारोबार का एक बड़ा हिस्‍सा चोरी-छिपे होता है, जिस पर नजर रखना कर विभाग के लिए मुश्किल है. समिति का यह भी कहना है कि सोने के मार्केट में टैक्‍स चोरी का आकलन करना वर्तमान सिस्‍टम के तहत संभव नहीं है. इसलिए इससे जुड़े हर ट्रांजैक्‍शन का रिकॉर्ड रखना जरूरी हो गया है.

टैक्‍स नहीं देने से बचे पैसे से खरीदते हैं सोना
कमिटि ने टैक्स से बचने वालों के खिलाफ कड़े नियम बनाने की भी सिफारिश की है. कमिटि के अनुसार अन्य देशों के मुकाबले भारत में लोग अधिक मात्रा में घर में सोना रखते हैं. यह खरीद अक्‍सर वे टैक्‍स नहीं देने से बचाए गए पैसे से करते हैं.

ऑनलाइन रखा जाएगा खरीद का हिसाब
सोने की हर खरीद को इलेक्ट्रॉनिक गोल्ड रजिस्ट्री में दर्ज किया जाएगा. इसका मतलब है कि सोने की खरीद का ऑनलाइन हिसाब-किताब रखा जाएगा, ताकि पता चल सके कि कहीं कोई व्यक्ति सोना खरीदकर काला धन तो जमा नहीं कर रहा है.

रामादोराई हैं समिति के अध्‍यक्ष
लंदन के इंपीरियल कॉलेज के प्रोफेसर तरुण रामादोराई इस समिति के अध्‍यक्ष हैं. इसमें रिजर्व बैंक, सेबी, बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण और पीएफआरडीए के प्रतिनिधि शामिल हैं. समिति ने गोल्ड एक्सचेंज बनाने का भी सुझाव दिया है, ताकि सोने के बाजार को प्रोत्साहित किया जा सके.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *