समाज्ञा

कस्टमर बन 45 मिनट में लूट लिए 39 लाख, ब्रांच मैनेजर ने बताई पूरी स्टोरी

बांका (बिहार).यहां के चान्दन थाना क्षेत्र से 500 मीटर दूर मुख्य बाजार में स्थित स्टेट बैंक की शाखा से शुक्रवार सुबह 6 हथियारबंद लुटेरों ने महज 45 मिनट में 39 लाख रुपए लूट लिए। लूटी गई रकम में ज्यादातर 500 व 2000 के नोट हैं। लुटेरे तीन बाइक से आए थे। सुबह 9 बजे बैंक खुलते ही अपराधी अंदर घुसे और 9:45 बजे निकल गए। ब्रांच मैनेजर ने भास्कर को दी ये जानकारी…

– बैंक में घुसने के बाद बदमाश एक-एक कर सभी बैंक कर्मचारियों को हथियार दिखाकर कब्जे में लेते गए और बाथरूम में बंद कर दिया।
– शातिर लुटेरे कंप्यूटर का हार्ड डिस्क भी लेते गए और जाते समय बैंक के दरवाजे पर ताला जड़ दिया।
– जानकारी मिलते ही भागलपुर के आईजी सुशील मान सिंह खोपड़े सहित वरीय अफसर घटनास्थल पर पहुंचे और मामले की जांच की।
– आईजी ने लूट में नक्सलियों का हाथ होने से इनकार किया है। हालांकि उन्होंने कहा कि बैंक में गुरुवार को ही मोटी रकम आई थी और शुक्रवार सुबह लुटेरे पहुंच गए।
– इस बात की जांच की जा रही है कि मोटी रकम आने की सूचना लुटेरों तक कैसे पहुंची।
सबसे पहले सीसीटीवी कैमरे के तार को काटा
– सुबह बैंक खुला ही था कि छह लुटेरे ग्राहक बनकर पहुंचे और बैंककर्मियों को बंधक बनाना शुरू कर दिया।
– पहले सीसीटीवी कैमरे के तार को काट दिया। तब तक कैशियर सौम्या राज नहीं आई थी।
– जैसे ही सौम्या आईं, लुटेरे उन्हें कब्जे में लेकर बाथरूम ले गए और चेस्ट की चाबी छीन उन्हें बंद कर दिया।
– इस बीच बैंक में एक ग्राहक और दो मिनरल वाटर देने वाले पहुंचे। लुटेरों ने तीनों को पहले पीटा फिर एक कमरे में बंद कर दिया।
– इसके बाद चेस्ट खोलकर 39 लाख रुपए लूट लिए और कटोरिया की ओर भाग गए। लूट के बाद दिनभर बैंक में कामकाज प्रभावित रहा।
– न तो किसी को बाहर जाने दिया गया और न ही किसी ग्राहक को अंदर। बैंक कर्मचारियों के साथ-साथ पानी लाने वाले दो लोगों व एक ग्राहक को भी दिन भर बैंक में बंद रहना पड़ा।
लुटेरों ने हथियार दिखाकर कहा, चुप रहो
– मैं रोजाना की तरह शुक्रवार को भी बैंक पहुंचा और अपने केबिन में बैठ गया। अभी बैठा ही था कि कुछ लोग बैंक के अंदर घुसे। मुझे लगा कि वे लोग बैंक के किसी काम से आए हैं।
– पर कुछ ही देर में उन लोगों ने अजीब सी हरकत शुरू कर दी। मैं कुछ समझ पाता उससे पहले ही वे लोग बैंक में लगे सीसीटीवी का तार काटने लगे।
– जब मैनें उन्हें ऐसा करने से रोका तो मुझ पर हथियार तानकर चुप रहने को कहा। इसके बाद मैं चुप हो गया। उन लोगों ने मुझे बाथरूम में ले जाकर बंद कर दिया।
– जब मैं बाथरूम पहुंचा तो देखा कि गार्ड वहां पहले से ही मौजूद था। मैनें जब गार्ड से पूछा कि तुम यहां कैसे पहुंचे तो उसने बताया कि जो छह लोग बैंक के अंदर आए हैं उन्होंने पहले मुझे मारा और बाथरूम में बंद कर दिया।
– इसके बाद एक-एक कर्मचारी को वे लोग बाथरूम में बंद करते गए। मैं 45 मिनट तक बाथरूम में बंद रहा। इस दौरान पानी लेकर आए दो लड़कों व एक ग्राहक को भी उन लोगों ने बंद कर दिया।
– जब कैशियर आई तो उससे उन लोगों ने चेस्ट की चाबी छीन ली। तब मुझे लगा कि कोई अनहोनी होने वाला है। थोड़ी देर के बाद हम सभी शोर मचाने लगे, लेकिन तब तक लुटेरे लूट की घटना को अंजाम दे चुके थे।
– शोर सुनकर आसपास के लोग वहां पहुंचे और पुलिस को सूचना दी।