योगी ने जारी किया पिछली सरकारों का ‘कच्चा चिट्ठा’

Samagya

लखनऊ
यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपनी सरकार के छह महीने पूरे होने के एक दिन पहले पिछली सरकारों का श्वेत पत्र जारी किया। उन्होंने कहा कि हम अपनी सरकार के काम मंगलवार को जारी करेंगे। जनता को सरकार का काम जानने का हक है।

योगी ने अखिलेश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि पिछली सरकार के बहुत सारे कारनामे हैं। श्वेत पत्र से उनका कच्चा चिट्ठा खुल जाएगा। श्वेतपत्र प्रदेश में गैर-जिम्मेदार भ्रष्ट और जन-विरोधी सरकारों के प्रमाण को पुष्ट करता है। साथ ही प्रदेश की वित्तीय स्थिति को भी बताता है।
योगी ने बताया कि पिछली सरकारों ने विकास पर सिर्फ तीन फीसदी खर्च किया है। प्रदेश का राजकोषीय घाटा तीन प्रतिशत से अधिक रहा है। 2015-16 में पीएसयू घाटा 91 हजार करोड़ से ज्यादा रहा है। पिछले 12 से 15 साल में सभी पीएसयू बंद हुए हैं।

उन्होंने कहा, बीते 6 महीने से बीजेपी सरकार काम कर रही है। हम अपनी सरकार के कामों को भी मंगलवार को जारी करेंगे। पिछली सरकार जनता के प्रति जवाबदेह नहीं थी। सीएम ने दावा किया कि उनकी सरकार में राज्य ने विकास की ऊंचाइयों को छुआ है। उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार में भ्रष्टाचार पर भी अंकुश लगा है।

श्वेतपत्र में किया इन बातों का जिक्र
राज्य के पीएसयू की संचित हानियां 2011-12 में 29,380.10 करोड़ रुपये की थीं, जो 2015-16 में बढ़कर 91,401.19 करोड़ रुपये हो गई।

उत्तर प्रदेश के नौजवानों के लिए रोजगार के अवसर लगातार सीमित होते जा रहे थे। उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग तथा भर्ती करने वाली अन्य संस्थाओं में अराजकता फैली थी। प्रतियोगी परीक्षाओं में भेदभाव बरता गया।

विद्युत आपूर्ति जैसी मूलभूत सुविधा देने में भेदभाव दिया गया।

पूर्ववर्ती सरकारों ने बुन्देलखण्ड एवं पूर्वांचल के विकास पर भी ध्यान नहीं दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *