समाज्ञा

अखिलेश का तंज- दयाराम बोलकर आशाराम के घर खाना खा आए CM योगी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को प्रतापगढ़ में दलित के घर भोजन किया था. इस मामले में अब एक नया मोड़ आ गया है. पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने एक अखबार की खबर का हवाला देते हुए ट्वीट किया और सीएम योगी पर निशाना साधा.

अखिलेश यादव ने सीएम योगी के कार्यक्रम के दौरान अधिकारियों की ओर से किए गए कार्यक्रम में बदलाव का जिक्र करते हुए ट्वीट किया. उन्होंने लिखा, ‘मुख्यमंत्री जी को पट्टी पढ़ा दी गयी और आशाराम के घर को बना दिया गया दयाराम का घर. अब तक ‘आयाराम-गयाराम’ ही चलता था, अब इस सरकार के दौर में ‘आशाराम-दयाराम’ का नया चलन शुरू हुआ है.’ 

क्या है पूरा मामला

दरअसल एक अखबार में छपी खबर के मुताबिक सीएम योगी ने जिसके घर भोजन किया था उनका नाम दयाराम सरोज बताया गया जबकि वह घर दयाराम के भाई लेखपाल आशाराम का था. तय कार्यक्रम के मुताबिक सीएम योगी को आशाराम के घर ही भोजन करना था लेकिन ग्रामीणों ने उनके सरकारी कर्मचारी होने से इसका विरोध किया था.

 

अधिकारियों ने ग्रामीणों के विरोध के चलते दयाराम सरोज के घर ही सीएम को भोजन कराने की योजना बनाई लेकिन भोजन लेखपाल आशाराम के घर पर ही कराया गया. सीएम के लिए सभी इंतजाम करने का जिम्मा दयाराम को सौंपा गया और उनके परिवार को वहीं बुला लिया गया.

ग्रामीणों ने क्यों किया विरोध

ग्रामीण ने कहना था कि करोड़पति लेखपाल आशाराम के सीएम नहीं रुकेंगे. इसके बाद अधिकारियों ने ग्रामीणों को बताया कि सीएम लेखपाल आशाराम के घर नहीं, उनके भाई दयाराम के घर भोजन करेंगे. लेखपाल आशाराम और उनके भाई दयाराम के अलग-अलग घर हैं.

दयाराम को घर भोजन की जानकारी मिलने पर ग्राणीणों का गुस्सा शांत को हुए लेकिन सीएम ने भोजना लेखपाल आशाराम के आलीशान मकान में ही किया. सीएम के कार्यक्रम के दौरान लेखपाल की ड्यूटी भी लगा दी गई ताकि ऐसा लगे कि सीएम दयाराम के घर ही भोजन करने जा रहे हैं. लेकिन मंगलवार को इस बात का खुलासा हुआ कि सीएम ने आशाराम के घर ही भोजन किया था.