पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर को अमेरिका ने बताया आजाद कश्मीर, भारत ने जताया कड़ा विरोध

अमेरिका की एक रिपोर्ट में पाक अधिकृत कश्मीर को आजाद जम्मू कश्मीर लिखे जाने पर भारत ने कडी आपत्ति जताई है। भारत ने इस बावत अमेरिका से विरोध जताया है। 19 जुलाई को जारी अमेरिकी स्टेट डिपार्टमेंट की रिपोर्ट “कंट्री रिपोर्ट ऑन टेररिज्म 2016 ” में पाक अधिकृत कश्मीर को आजाद जम्मू कश्मीर कहा गया है, हालांकि रिपोर्ट में इस बात को भी लिखा गया है कि इस इलाके का इस्तेमाल आतंकी भारत के आतंकी गतिविधियों को चलाने के लिए करते हैं। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता के मुताबिक इस रिपोर्ट के जारी होने के बाद भारत ने अमेरिकी प्रशासन से विरोध जताया है। भारत के विरोध के बाद अमेरिकी अधिकारियों ने इस बात को स्वीकार किया कि अमेरिका के जम्मू-कश्मीर के विवरण में विसंगति रही है लेकिन अमेरिका का कहना है जम्मू कश्मीर को लेकर उसकी नीति में कोई बदलाव नहीं आया है। अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता ने समाचार एजेंसी पीटीआई से कहा, ‘‘कश्मीर को लेकर हमारी नीति में बदलाव नहीं आया है। कश्मीर से संबंधित चर्चाओं की गति, गुंजाइश तथा चरित्र का निर्धारण दोनों संबद्ध देश करेंगे लेकिन हम करीबी संबंधों के विकास के लिए भारत एवं पाकिस्तान द्वारा उठाए जाने वाले सभी सकारात्मक कदमों का समर्थन करते हैं।’’

बता दें कि ये पहली बार है कि अमेरिका ने पीओके को आजाद जम्मू कश्मीर कहकर संबोधित किया है। हाल तक अमेरिकी प्रशासन इस क्षेत्र के लिए ‘पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर’ शब्द का इस्तेमाल करता था। हालांकि भारत के लिए संतुष्टि की बात ये है कि इसी रिपोर्ट में जम्मू कश्मीर को भारत का राज्य बताया गया है, जबकि अमेरिकी सरकार पहले इसके लिए भारत प्रशासित कश्मीर शब्द का प्रयोग करती थी। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि हरकत उल मुजाहिदीन (HUM) की चर्चा करते हुए लिखा गया है कि ये संगठन मुख्य रुप से भारत के राज्य जम्मू कश्मीर और अफगानिस्तान में अपनी गतिविधियां चलाता है। आगे इस रिपोर्ट में लिखा गया है कि HUM आजाद जम्मू कश्मीर के मुजफ्फराबाद और पाकिस्तान के कई दूसरे शहरों से संचालित होता है। इसी तरह आतंकी हाफिज सईद के बारे में इस रिपोर्ट में लिखा गया इस संगठन के सदस्यों की वास्तविक संख्या तो बताना मुश्किल है लेकिन आजाद कश्मीर और पाकिस्तान पंजाब, खैबर पख्तूनखवा और भारत के राज्य जम्मू कश्मीर में इस संगठन के हजारों सदस्य हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *