डीसी एसटीएफ ने किया इच्छापुर राइफल फैक्ट्री का दौरा – कोलकाता

पुराने एवम खराब हथियार फैक्ट्री में पाया गया एवम फैक्ट्री में गुप्त रूप से प्रवेश करने का रास्ता

भोला ने दिखाया फैक्ट्री में गुप्त रूप से प्रवेश करने का द्वार
नमूने के तौर पर 2 रिवाल्वर किये गये जब्त
कोलकाता, समाज्ञा

कोलकाता पुलिस के एसटीएफ विभाग द्वारा हथियारों की तस्करी के मामले में 6 लोगों की गिरफ्तारी के बाद पुलिस मामले की गहराई तक पहुंचने के लिए तत्पर हो गयी है। गिरफ्तारी के दूसरे दिन यानी मंगलवार को डीसी एसटीएफ मुर्लीधर शर्मा व उनकी टीम इच्छापुर रायफल फैक्ट्री पहुंची। वे अपने साथ अभियुक्त भोला को भी साथ ले गये थे ताकि उन्हें फैक्ट्री से रायफल चोरी करने की तकनीक के विषय पर जानकारी मिल सके। डीसी ने बनाया कि फैक्ट्री के अधिकारियों से बातचीत कर मामले की कार्रवई शुरू की गयी। इस दौरान अभियुक्त भोला ने उन्हें उस गजह से अवगत कराया जहां से वह फैक्ट्री के अंदर प्रवेश करता था। अभियुक्त द्वारा दिखाए गये द्वार के अनुसार उसने दीवार की खिड़की के लोहे को नीचे से काटा था और उसी रास्ते अंदर प्रवेश करता था। वहीं उसने एसटीएफ विभाग की टीम को उस स्टोर से भी अवगत कराया जहां से वह रायफल चुराता था। डीसी ने बताया कि जांच में उन्हें पता चला है कि रद्दी घोषित कर स्टोर में रखे जाने वाले राइफलों की रिकॉर्ड नहीं रखी जाती थी। वहीं उन्होंने बताया कि जिस खिड़की के जरिए भोला फैक्ट्री के अंदर जाता था ठीक उसी के पास एक रद्दी रिवाल्वर भी पड़ी हुई मिली। एसटीएफ विभाग ने नमूने के तौर पर इच्छापुर रायफल फैक्ट्री से 2 रिवाल्वर भी जब्त किये हैं। इस तस्करी में इच्छापुर रायफल फैक्ट्री के अन्य कर्मियों के शामिल होने की संभावना जताई जा रही है। इस संदर्भ में कई लोगों को पूछताछ के लिए बुलाया जा सकता है।

बिहार में सक्रिय है पंडित का गिरोह
एसटीएफ सूत्रों के अनुसार अभियुक्त गुडू पंडित से पूछताछ करने पर कई तथ्य सामने आए हैं। पूछताछ के दौरान इस बात का पता चला है कि बिहार में गुडू एक गिरोह चला रहा है जो हथियारों की तस्करी में सक्रिय है। उनलोगों की मदद से वह उत्तर पूर्वी राज्यों से ए.के. 47 भी मंगवाता था। इस खुलासे के बाद से देश के ऑर्डिनेंस फैक्ट्रियों की सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़े होते नजर आ रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *