दिल्ली में अब तक का सबसे महंगा डीजल, पहुंचा 65 रुपये के पार

पेट्रोलडीजल की बढ़ती कीमतों में जारी तेजी का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है.  राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पहली बार डीजल के दाम 61 रुपए प्रति लीटर के पार पहुंच गए हैं. वहीं पेट्रोल की कीमतें फिर 70.50 रुपए प्रति लीटर के ऊपर चली गई हैं. इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन के अनुसार दिल्ली में शुक्रवार को पेट्रोल के दाम 70.70 रुपए प्रति लीटर पहुंच गए. डीजल की कीमतों की बात करें तो ये शुक्रवार को 61.18 रुपए प्रति लीटर के स्‍तर पर हैं.

आपको बता दें कि शुक्रवार को देश में डीजल के दाम 65 रुपए प्रति लीटर पहुंच चुके हैं. देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में शुक्रवार को डीजल की कीमतों 65.10 रुपए लीटर दर्ज की गई हैं जो 43 महीने में सबसे अधिक भाव है, मुंबई में इससे पहले जून 2014 में डीजल 65.84 रुपए प्रति लीटर पर बिका है जो अबतक का रिकॉर्ड भाव है.

दिल्ली सहित चेन्नई और कोलकाता में दाम रिकॉर्ड ऊंचाई पर
> देश की राजधानी दिल्ली में डीजल का भाव पहले ही रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया है और शुक्रवार को > दिल्ली में भी कीमतों ने 61 रुपए की रिकॉर्ड ऊंचाई को पार कर नया रिकॉर्ड बनाया है.

दिल्ली में डीजल का दाम 61.18 रुपए प्रति लीटर हो गया है
>  शुक्रवार को कोलकाता में डीजल का दाम 63.84 रुपए और चेन्नई में 64.48 रुपए प्रति लीटर दर्ज किया गया.
> दिल्ली के अलावा कोलकाता और चेन्नई में भी दाम नई रिकॉर्ड ऊंचाई पर हैं.

पेट्रोल की कीमतों में भी बढ़ोतरी
> पेट्रोल की कीमतों में भी लगातार तेजी बनी हुई है.
> शुक्रवार को दिल्ली में पेट्रोल का दाम 70.73 रुपए है
> कोलकाता में 73.47 रुपए हो गया है
> मुंबई में 78.62 रुपए और चेन्नई में 73.33 रुपए प्रति लीटर है.

क्यों बढ़ रहे है दाम
एक्सपर्ट्स के मुताबिक क्रूड (कच्चे तेल) के दाम दो साल के सबसे उच्चतम स्तर पर पहुंच गए हैं. ब्रेंट क्रूड के दाम 70 डॉलर प्रति बैरल के नजदीक है. इसके अलावा इंटरनेशनल मार्केट में पेट्रोल-डीजल के रेट्स तेजी से बढ़े हैं. इनका असर पेट्रोल-डीजल के दामों पर दिख रहा है.

कच्चे तेल की बात करें तो अंतरराष्ट्रीय बाजार में इसका दाम 37 महीने के ऊपरी स्तर पर है, डब्ल्यूटीआई क्रूड का भाव 64 डॉलर प्रति बैरल के करीब पहुंच गया है जबकि ब्रेंट क्रूड का दाम 70 डॉलर प्रति बैरल के ऊपर है.

पेट्रोल-डीजल के रेट्स इन आधार पर होते हैं तय
एनर्जी एक्सपर्ट्स नरेंद्र तनेजा ने न्यूज18 हिंदी को बताया कि ऑयल मार्केटिंग कंपनियां तीन आधार पर पेट्रोल और डीजल के रेट्स तय करती हैं. पहला इंटरनेशनल मार्केट में क्रूड (कच्चे तेल का भाव). दूसरा देश में इंपोर्ट (आयात) करते वक्त भारतीय रुपए की डॉलर के मुकाबले कीमत. इसके अलावा तीसरा आधार इंटरनेशनल मार्केट में पेट्रोल-डीजल के क्या भाव हैं.

मोदी के कार्यकाल में डीजल पर उत्पाद शुल्क 380% बढ़ा
>
 मोदी सरकार के कार्यकाल में डीजल पर उत्पाद शुल्क 380 प्रतिशत से ज्यादा बढ़ाया गया है.
> इस दौरान यह 3.56 रुपए से बढ़कर 17.33 रुपए प्रति लीटर हो गया है.
> पेट्रोल के उत्पाद शुल्क में 120 प्रतिशत की वृद्धि हुई है.
> मौजूदा सरकार के सत्ता में आने के समय इस पर उत्पाद शुल्क 9.48 पैसे था जो फिलहाल 21.48 रुपए प्रति लीटर पर पहुंच चुका है.
> अंतरराष्ट्रीय बाजार में इस समय ब्रेंट क्रूड की कीमत 67 डॉलर प्रति बैरल से ऊपर है.
> अचानक कीमतों में तेज गिरावट से पहले वर्ष 2014 में यह 115 डॉलर प्रति बैरल के पार पहुंच चुका था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *