समाज्ञा

बेघर लोगों को बिना किसी भेदभाव के मिलेंगे मुफ्त घर : त्रिपाठी

लखनऊ 15 जुलाई : भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने आज कहा कि बेघर लोगों को मुफ्त घर देने की मोदी सरकार और योगी सरकार की योजना बिना किसी भेदभाव के लागू की जाएगी।

भाजपा के उत्तर प्रदेश प्रवक्ता शलभ मणि त्रिपाठी ने कहा, ‘आर्थिक तौर पर कमजोर परिवारों को बेहद सस्ते और बेघर लोगों को मुफ्त घर देने की मोदी सरकार और योगी सरकार की योजना अभूतपूर्व और सराहनीय है। इस योजना का सीधा लाभ गरीबों और आर्थिक तौर पर कमजोर परिवारों को मिलेगा।’ उन्होंने कहा, ‘बिना किसी भेदभाव के ये मकान हर उस परिवार को दिए जाएंगे जो इसके हकदार हैं। इसके लिए सरकार ने पूरी पारदर्शिता से ऐसे परिवारों के चयन की प्रक्रिया भी शुरू कर दी है।’ त्रिपाठी ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना और पंडित दीनदयाल उपाध्याय अंत्योदय आवास योजना के तहत दिए जा रहे इन मकानों में गुणवत्ता का भी पूरा ध्यान रखा जाएगा और इन मकानों के लिए पार्क, पार्किग, खेल मैदान समेत सारी मूलभूत सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी।

प्रवक्ता ने कहा कि खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस योजना की समीक्षा करते हुए कई विभागों से इन आवासों के मॉडल बनवाए और सबसे बेहतर मॉडल का चयन किया। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत जहां बेहद कम कीमत पर लोग अपना घर पा सकेंगे तो वहीं दीन दयाल उपाध्याय अंत्योदय आवास योजना के तहत प्रदेश सरकार बेघर लोगों को मुफ्त में घर मुहैया कराएगी।

उन्होंने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार और राज्य की योगी सरकार मिलकर गरीबों की उन्नति के लिए काम कर रही है और इसी का उदाहरण है प्रधामनंत्री आवास योजना और पंडित दीन दयाल उपाध्याय अंत्योदय आवास योजना।

त्रिपाठी ने कहा कि इससे पहले योगी सरकार गरीब परिवारों को मुफ्त बिजली कनेक्शन भी उपलब्ध करा चुकी है। साथ ही किसानों का कर्ज भी माफ किया जा चुका है। अब केंद्र की मोदी सरकार के दिशा निर्देशन में राज्य की योगी सरकार आर्थिक तौर पर कमजोर परिवारों को मुफ्त में अपने घर के तौर पर एक बड़ा तोहफा देने जा रही है। ये सारी योजनाएं दीनदयाल के उन सपनों को पूरा करेंगी, जिसमें समाज के आखिरी व्यक्ति को मजबूत करने की बात कही गई थी।

उन्होंने बताया कि सरकार ने तय किया है कि हर साल ऐसे दो लाख से ज्यादा आवास बनाए जाएंगे। प्रदेश में ऐसे घर बनने शुरू भी हो गए हैं। ये योजना उन लोगों के लिए खासी मददगार साबित होगी जो आर्थिक परेशानियों के चलते अपना मकान नहीं बनवा सकते हैं।