अगर 2019 में BJP जीती, तो भारत बन जाएगा हिंदू पाकिस्तान बोले- शशि थरूर

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री शशि थरूर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी पर करारा हमला बोला है. उन्होंने कहा कि अगर साल 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव में बीजेपी जीती, तो हिंदुस्तान का संविधान खतरे में पड़ जाएगा. भारत हिंदू पाकिस्तान बन जाएगा.

उन्होंने कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव में बीजेपी की जीत से लोकतांत्रिक मूल्य खतरे में पड़ जाएंगे. वहीं, कांग्रेस सांसद शशि थरूर के इस बयान पर बीजेपी ने पलटवार किया है. बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि थरूर के बयान पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को माफी मांगनी चाहिए.

संबित पात्रा ने कहा कि इसी कांग्रेस पार्टी ने अपने स्वार्थ के लिए पाकिस्तान को जन्म दिया है. पाकिस्तान आज टेररिस्तान है, जिसकी हिंदुस्तान से तुलना नहीं की जा सकती है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने बार-बार हिंदुस्तान को नीचा दिखाने का प्रयास किया है. साथ ही हमेशा हिंदुओं को गाली देने का काम किया है.

कांग्रेस अध्यक्ष पर निशाना साधते हुए पात्रा ने कहा कि इससे पहले राहुल गांधी ने हिंदुओं को सैफ्रॉन टेररिस्ट कहा था. अब उनके नेता शशि थरूर ने हिंदुओं को गाली दी है. लिहाजा राहुल गांधी को इस के लिए माफी मांगनी चाहिए. यह पहली बार नहीं है, जब कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने प्रधानमंत्री मोदी और बीजेपी पर हमला किया है.

इससे पहले इसी साल जनवरी में थरूर ने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा था कि मोदी देश के संविधान को पवित्र तो कहते हैं, लेकिन वह हिंदुत्व के पुरोधा पंडित दीन दयाल उपाध्याय को नायक के तौर पर सराहते भी हैं. एक ही समय में उपाध्याय और संविधान की तारीफ नहीं की जा सकती है.

 

उन्होंने कहा था कि दोनों चीजें साथ-साथ नहीं चल सकतीं. हिंदुओं को उठ खड़े होने और यह समझने की सख्त जरूरत है कि उनके नाम पर क्या किया जा रहा है और इसके खिलाफ बोलने की जरूरत है.

पूर्व केंद्रीय मंत्री थरूर ने कहा था, ‘हमें सही को सही और गलत को गलत कहने की जरूरत है. हम ऐसे देश में रह रहे हैं, जहां एक तरफ तो प्रधानमंत्री कहते हैं कि संविधान पवित्र ग्रंथ है और दूसरी तरफ वह एक नायक के तौर पर प्रशंसा करते हैं. साथ ही अपने मंत्रालयों को निर्देश देते हैं कि वे उस दीन दयाल उपाध्याय के कार्यों, लेखन एवं शिक्षण को पढें और पढ़ाएं. यह साफ तौर पर संविधान को खारिज करते हैं और जो कहते हैं कि संविधान मूल रूप से त्रुटिपूर्ण है. दोनों विचार विरोधाभासी हैं.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *