समाज्ञा

मुर्गे के मर्डर का आरोप तो करवाना पड़ा पोस्टमार्टम, अब होगी फोरेंसिक जांच

कोरबा. यहां मुर्गे-मुर्गी और उसके आठ चूजों की मौत का मामला पुलिस तक पहुंच गया। पुलिस ने मामले की सुलझाने की कोशिश की तो शिकायतकर्ता भड़क गया। आखिरकार मुर्गे-मुर्गी का पोस्टमार्टम कराना पड़ा और आगे फॉरेंसिक टेस्ट के लिए बिसरा भी रख लिया गया है। जानिए पूरा मामला…
– यह अजीबोगरीब केस शहर के सीएसईबी चौकी में आया। घटना चौकी से एक किलोमीटर दूर मानस नगर में हुई।
– शिकायतकर्ता लक्ष्मण यादव मजदूरी करता है। उसकी पत्नी रागिनी ने मुर्गा-मुर्गी पाल रखा था।
– शिकायत के मुताबिक जो गुरुवार को मुर्गी-मुर्गा व उनके आठ चूजे दाना चुगते हुए पड़ोसी राजा यादव की बाड़ी में चले गए।
– शाम को जब वे लोटे तो उन्हें रोज की तरह उनके बाड़े में डाल दिया गया। लेकिन अगली सुबह सभी मृत मिले।
– लक्ष्मण और रागिनी ने इसके लिए पड़ोसी राजा यादव को जिम्मेदार ठहराया और उस पर जहर देकर मारने का आरोप लगाया।
– आरोप लगाने के बाद दोनों पक्षों में बहस हो गई। इस पर यादव कपल मृत मुर्गी-मुर्गा को लेकर पुलिस चौकी पहुंच गए।
थाने में बुलाकर आरोपी से पूछताछ
– सीएसईबी पुलिस चौकी प्रभारी ग्रहण सिंह राठौर ने यादव दंपति की शिकायत पर राजा को पूछताछ के लिए बुला लिया।
– राजा ने खुद आशंका जताई कि उसने बाड़ी में लगे पौधों को बचाने के लिए जो कीटनाशक का छिड़काव किया है उसका असर मुर्गे-मुर्गियों पर हो गया होगा।
– पुलिस ने बेहद साधारण मामला मानकर दोनों पक्षों को समझाया लेकिन यादव दंपत्ति कार्रवाई पर अड़ गए।
– थक हारकर पुलिस ने मृत मुर्गों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए पशु चिकित्सालय भेजा।
– पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत कारण कारण स्पष्ट नहीं हो पाया तो फोरेंसिक जांच के लिए बिसरा प्रिजर्व कर लिया गया।
नेतागीरी में मामला हुआ हाईप्रोफाइल
– मुर्गों की मौत का यह मामला आपसी समझौते से निपटने की स्थिति में था लेकिन यादव दंपत्ति के कुछ परिचितों ने नेतागीरी की।
– इससे कई हाईप्रोफाइल फोन आने लगे और मामला उलझ गया। पुलिस सुबह से शाम तक इस कार्रवाई में उलझी रही।
– पुलिस अब मुर्गे-मुर्गी के बिसरा जांच कराने को लेकर परेशान है।
– चोकी प्रभारी ग्रहण सिंह राठौर का कहना है कि फोरेंसिक जांच में जो रिपोर्ट आएगी उसके अनुसार एक्शन लिया जाएगा।
जब बकरी को किया गया था ‘गिरफ्तार’
– एक साल पहले कोरिया जिले के जनकपुर में एक मजिस्ट्रेट के बंगले में घुसकर बकरी पेड़ की पत्तियां खा गई थी।
– पुलिस ने बकरी को हिरासत में लेकर मालिक को तलब किया था। मामला चर्चित रहा था।
– कोरबा की घटना ने उस केस की याद ताजा करा दी