गोरखपुर में बीजेपी पिछड़ी तो DM ने रोक दी नतीजों की घोषणा

गोरखपुर लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव के वोटों की गिनती जारी है. बीजेपी उम्मीदवार उपेंद्र शुक्ल पहले राउंड की काउंटिंग के बाद आगे चल रहे थे, लेकिन दूसरे राउंड की गिनती पूरी होने के बाद बीजेपी जैसे ही पिछड़ी तो जिले के डीएम राजीव रौतेला ने नतीजों की घोषणा ही रोक दी. गोरखपुर में आठ से 10 राउंड के मतों की गिनती पूरी हो चुकी है, लेकिन सवाल उठने के बावजूद डीएम ने सिर्फ चार दौर के नतीजे घोषित किए हैं.

इससे पहले गोरखपुर की मतगणना में बीजेपी उम्मीदवार पिछड़ने लगा तो मतगणना केंद्र के अंदर मीडिया की इंट्री पर ही प्रशासन ने रोक लगा दी. आठ राउंड की काउंटिंग पूरी हो जाने के बाद सिर्फ पहले दौर के वोटों की गिनती के नजीते घोषित किए गए. जबकि दूसरे राउंड के नतीजे में ही सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद बीजेपी के उपेंद्र शुक्ला से आगे निकल गए थे.

गोरखपुर उपचुनाव नतीजों की जानकारी जिला प्रशासन ने जब मीडिया को नहीं दी तो सवाल उठे. तब डीएम ने तर्क दिया कि ऑब्जर्वर द्वारा साइन न किए जाने के कारण ही चुनाव नतीजों का ऐलान नहीं किया जा रहा. बाद में दबाव बढ़ने पर डीएम ने दूसरे, तीसरे और चौथे राउंड के नतीजों का ऐलान किया जिसमें सपा उम्मीदवार को आगे बताया गया.

डीएम राजीव रौतेला ने पहले राउंड की मतगणना के नतीजे बताते हुए कहा कि आठ से नौ राउंड की काउंटिंग हो चुकी है, लेकिन कहा कि घोषणा में लंबी प्रक्रिया होती है. आब्जर्वर के हस्ताक्षर के बाद ही नतीजे हम घोषित करते हैं.

 

वरिष्ठ पत्रकार आलोक मेहता ने इस घटना को गुंडागर्दी और आतंक जैसे सख्त शब्दों से जोड़ा. उन्होंने कहा कि गोरखपुर में योगी आदित्यनाथ का प्रशासनिक अधिकारियों पर ऐसा आतंक है कि डर के मारे अधिकारी नतीजे घोषित नहीं कर रहे. वहीं वरिष्ठ पत्रकार शरद प्रधान ने कहा कि मौजूदा डीएम राजीव रौतेला सीएम योगी के बहुत खास हैं. गोरखपुर में ऑक्सीजन की कमी के चलते बच्चों की मौत के बाद कई अधिकारी हटाए गए लेकिन राजीव सीएम से नजदीकी के चलते बचे रहे. वे अब उसी अहसान का कर्ज चुका रहे हैं और ये बहुत ही अचरज भरी बात है.

बता दें कि योगी आदित्यनाथ ने पिछले पांच बार से गोरखपुर से सांसद रहने के बाद पिछले साल यूपी के सीएम बनने के बाद यहां की लोकसभा सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था. योगी की कर्मभूमि गोरखपुर लोकसभा सीट के उपचुनाव के लिए बीजेपी के उपेंद्र शुक्ला और बसपा समर्थित सपा के उम्मीदवार प्रवीण निषाद हैं. वहीं कांग्रेस ने सुरहिता करीम को उतारा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *