व्यापारी ने लगाया विधाननगर के मेयर पर रुपए मांगने का आरोप

 

त्रिपुरा चुनाव के लिए मांग 1 करोड़

विधाननगर नार्थ थाने में की शिकायत दर्ज

ममता बनर्जी को लिखा पत्र

कोलकाता, समाज्ञा

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी राज्य के विकास के लिये उद्योगपतियों को निवेश करने के लिये आमंत्रित कर रहीं हैं। देश-विदेश जाकर उद्योगपतियों को बंगाल में निवेश करने के लिए कह रही है लेकिन खुद उनके राज्य में ही व्यापारी को व्यापार करने में परेशानी हो रही है। सत्ताधारी तृणमूल सरकार के विधायक व विधाननगर के मेयर सब्यसाची दत्ता पर एक व्यवसायी से करोड़ों रुपये मांगने का आरोप लगते ही सनसनी फैल गयी। एक व्यवसायी मधुसुदन चक्रवर्ती ने कोलकाता प्रेस क्लब में एक संवाददाता सम्मेलन कर आरोप लगाते हुए कहा कि विधाननगर के मेयर सब्यसाची दत्ता ने उनसे फोन कर एक करोड़ रुपये की मांग की। व्यवसायी से त्रिपुरा चुनाव में खर्च के लिये उक्त रुपये मांगने का आरोप लगाया है। मधुसुदन चक्रवर्ती ने आरोप लगाते हुए कहा कि सोमवार को उसे 30 लाख रुपये देने के लिये कहा गया था लेकिन उसने रुपये नहीं दिये। मंगलवार की सुबह 10 बजे सब्यसाची ने उसे फोन किया। मधुसूदन ने कहा कि उसे तृणमूल के नेताओं से इस विषय पर बात की तो नेताओं ने यह मामला आपस में सुलझा लेने की बात कही। व्यवसायी के दावें को माने तो उन्होंने संबंधित मामले में फोन रिकार्ड कर रखा है। व्यवसायी के आरोप के अनुसार इससे पहले उन्होंने इस नेता के एक आदमी विद्युत गांगोपाध्याय को 2.30 लाख रुपये दिया भी है। इसके बाद फिर फोन कर दत्ता ने उनसे 3 फरवरी को 30 लाख की मांग की तो उन्होंने इतने रुपये उस समय नहीं होने की बात कहकर टाल दिया। इसके बाद ही दत्ता द्वारा पैसा नहीं देने पर परिणाम भुगतने की भी बात कही। व्यवसायी का कहना है कि वह दहशत में हैं और उन्हें हमेशा डर लग रहा है कि कहीं कुछ हो न जाये। मधुसुदन चक्रवर्ती ने कहा कि वह मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के पास गुहार लगाएंगे। उन्होंने विधाननगर नार्थ थाने में शिकायत दर्ज की और एक पत्र सीएमओ को लिखा। उन्होंने उन दोनों के बीच किए गए रुपयों की डीलिंग वाला वीडियो भी जारी किया। उन्होंने आरोप लगाया है कि मेयर की रुपयों की मांग धीरे-धीरे बढ़ने लगी है जिसके कारण उसने यह मामला सभी के सामने लाया लेकिन इस मामले को लेकर महानगर ही नहीं राज्य भर में चर्चा शुरू हो गयी है। यहां तक कई राजनीतिक दलों ने इस मामले को लेकर सियासत भी शुरू हो गयी है। इधर सब्यसाची दत्ता त्रिपुरा चुनाव में व्यस्त हैं। पंचायत चुनाव होने वाली है। मुख्यमंत्री जिलाओं में जाकर वहां पर सरकारी काम के साथ पार्टी के नेताओं के साथ भी बैठक कर रही है। उक्त मामला राज्य सरकार के लिए एक और नयी मुसीबत नहीं बन सकती है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *