समाज्ञा

हाइड्रोजन बम: पूरा न्यूयॉर्क हो जाएगा तबाह, एक शख्स भी जिंदा नहीं बचेगा

प्योंगयांग: उत्तर कोरिया ने अपने सरकारी मीडिया पर रविवार को को दावा किया कि उसने हाइड्रोजन बम का सफल परीक्षण किया है. उत्तर कोरिया के इस परिक्षण से कोरिया प्रायद्वीप की जमीनें कांप उठी. उत्तरी हैमग्योंग प्रांत में 5.7 तीव्रता का कृत्रिम भूकंप दर्ज किया गया.

उत्तर कोरिया के इस परीक्षण से अमेरिका, जापान, दक्षिण कोरिया की चिंता बढ़ गई है. ये देश इसे सुरक्षा को लेकर एक खतरे के तौर पर ले रहे हैं.

अब सवाल है कि आखिर हाइड्रोजन बम कितना शक्तिशाली है?

आपतो बता दें कि एक परमाणु बम की तुलाना में एक हाइड्रोजन बम 1,000 गुना ज्यादा ऊर्जा का उत्सर्जन करता है.

जहां परमाणु बम नाभकीय विघटन की तकनीक पर आधारित होता है जिसमें परमाणुओं के विखंडन से दो नए तत्व बनते हैं और ऊर्जा पैदा होती है. इसी तकनीक पर आधारित बम का प्रयोग जापान के शहर हिरोशिमा और नागासाकी में किया गया था. जिससे दो लाख लोग मारे गए थे.

वहीं नाभकीय संलयन में दो परमाणुओं के मिलने से एक नया तत्व बनता है साथ ही बहुत ही ज्यादा बड़ी मात्रा में ऊर्जा पैदा होती है.

पूरा न्यूयॉर्क शहर तबाह हो जाएगा

सियोल की कुकमीन यूनिवर्सिटी में कोरियन स्टडीज के प्रोफेसर एंड्री लंकोव बताते है कि एक हाईड्रोजन बम न्यूयार्क शहर को पूरी तरह से तबाह कर सकता है. धमाके के बाद एक भी शख्स जिंदा नहीं बचेगा. वहीं एक परमाणु बम से न्यूयार्क शहर का एक हिस्सा मैनहेटन ही तबाह हो पाएगा.

आपको बता दें कि न्यूयॉर्क शहर की आबादी 85 लाख है और शहर का क्षेत्रफल 789 वर्ग किलोमीटर है.

उत्तर कोरिया के इस सफल परीक्षण पर सिओल यूनिवर्सिटी के न्युक्लियर विभाग के प्रोफेसर सुह कहते है कि यह परिक्षण गेम चेंजर नहीं बल्कि गेम ओवर है.