PAC की बैठक में शामिल हुए कुमार विश्वास, केजरीवाल के सामने रखीं तीन शर्तें

नई दिल्ली
कुमार विश्वास आम आदमी पार्टी (AAP) में रहेंगे या जाएंगे, यह संभवत: बुधवार को साफ हो जाएगा। मंगलवार रात उन्हें मनाने की घंटों चली कोशिशों के बाद कुमार PAC की बैठक में शामिल होने को राजी तो हो गए, पर उन्होंने पार्टी के सामने तीन शर्तें रख दी हैं। नवभारत टाइम्स.कॉम के साथ बातचीत में कुमार ने इन शर्तों का खुलासा किया है। माना जा रहा है कि अगर इन तीन शर्तों को नहीं माना गया तो कुमार अपनी राह अलग कर सकते हैं। ऐसे में PAC की इस अहम बैठक पर सबकी नजर है।

कुमार विश्वास की तीन शर्तें

1. भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस

2. पार्टी कार्यकर्ताओं को प्रभावित करने वाले हर फैसले में उनकी राय ली जाए। सिर्फ कुछ बड़े नेता मिलकर आपस में कोई फैसला न करें।

3. ‘वी द नेशन’ विडियो के लिए माफी नहीं मांगेंगे। किसी ने सीधे विडियो वापस लेने को नहीं कहा, पर इशारे जरूर किए गए।

PAC की बैठक में शामिल विश्वास
मंगलवार को केजरीवाल के घर पर कुमार विश्वास को मनाने की कोशिशें देर रात तक चलती रहीं। इसके बाद कुमार अपनी पत्नी के साथ घर लौट गए, पर उन्होंने मीडिया से बात नहीं की। केजरीवाल ने मीडिया से बातचीत में दावा किया कि विश्वास को मना लिया जाएगा। ऐसे में PAC की बैठक पर सबकी नजर है, जिसके बाद स्थिति साफ हो सकती है। कुमार विश्वास बैठक में शामिल हुए हैं। पार्टी में इसे सकरात्मक संकेत के तौर पर लिया जा रहा है।

क्या होगा अमानतुल्लाह का?
दरअसल, पार्टी के विधायक अमानतुल्लाह खान ने खुलकर कुमार विश्वास पर बीजेपी के साथ मिलकर पार्टी को तोड़ने की साजिश रचने का आरोप लगाया था। ऐसे में कुमार उम्मीद कर रहे थे कि केजरीवाल अमानतुल्लाह को पार्टी से तुरंत बाहर का रास्ता दिखा देंगे, पर ऐसा हुआ नहीं। अमानतुल्लाह को सिर्फ PAC से बाहर किया गया। मंगलवार को मीडिया से बातचीत में कुमार ने इस सिलसिले में खुलकर अपनी बात कही थी। ऐसे में यह माना जा रहा है कि अमानतुल्लाह को लेकर भी PAC की बैठक में फैसला लिया जा सकता है।

खूब हुई थी बयानबाजी
मंगलवार को जब कुमार विश्वास ने मीडिया के सामने अपनी नाराजगी जाहिर की तो मनीष सिसोदिया ने उन्हें नसीहत दे डाली थी। सिसोदिया ने कहा था कि कुमार को इसे निजी लड़ाई नहीं बनाना चाहिए। उन्होंने पार्टी की बैठक में आने के बजाय मीडिया के सामने अपनी बात रखने के लिए भी विश्वास को आड़े हाथों लिया था। हालांकि कुमार विश्वास ने जब फैसला लेने के लिए मंगलवार रात की डेडलाइन का ऐलान किया, तो केजरीवाल और सिसोदिया उन्हें मनाने पहुंच गए।

बता दें कि कुमार विश्वास अन्ना आंदोलन के समय से ही केजरीवाल और मनीष सिसोदिया के साथ जुड़े हुए हैं। वह AAP के संस्थापक सदस्यों में से एक है, साथ ही सिसोदिया के अच्छे दोस्त भी। वह पार्टी के स्टार प्रचारकों में से एक हैं। उनके बीजेपी में जाने की अटकलें पहले भी लगती रही हैं, पर उन्होंने हर बार इसका खंडन किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *