समाज्ञा

लंबे इंतजार के बाद अपनी मां से मिला पाकिस्‍तान का 5 साल का इफ्तिखार

नई दिल्ली: धोखे से भारत लाए गए 5 साल के इफ्तिखार को पाकिस्तान वापिस भेज दिया गया है. भारतीय अधिकारियों ने शनिवार को वाघा बॉर्डर पर  इफ्तिखार को पाकिस्तानी अधिकारियों को सौंप दिया. वहीं बॉर्डर के दूसरी ओर इफ्तिखार की मां कई घंटों से अपने बेटे को देखने के लिए तड़प रही थी. लगभग साल भर बाद वाघा बॉर्डर पर आखिरकार इफ्तिखार अपनी मां के पास सही सलामत पहुंच गया.

इफ्तिखार को मार्च 2016 में उसका पिता धोखे से भारत लाया था. इफ्तिखार की मां रोहिना कियानी का कहना है कि इफ्तिखार का पिता झूठ बोल कर इफ्तिखार को भारत लाया था. इफ्तिखार का पिता कश्मीर का रहने वाले है. उसने रोहिना से कहा था कि वह इफ्तिखार को भारत एक शादी के लिए लेकर जा रहा है.

रोहिना ने अपने बेटे को वापिस पाने के लिए पाकिस्तानी उच्चायोग से मदद की गुहार की. पाकिस्तानी उच्चायोग ने पाया की इफ्तिखार एक पाकिस्तानी नागरिक है और उसे वापिस उसकी मां के पास पाकिस्तान लाया जाना चाहिए.

खुफिया सूत्रों का मानना है कि इफ्तिखार को भारत नेपाल के रास्ते लाया गया था. इफ्तिखार का पिता आतंकवादी गतिविधियों में शामिल था और 2011 में बॉर्डर पार करके पाकिस्तान भाग गया था. कुछ समय बाद उसने पाकिस्तान में रोहिना से शादी कर ली थी. लगभग एक साल के लंबे इंताजर के बाद रोहिना को अपना बेटा वापिस मिल गया. इफ्तिखार के वापिस मिलने पर रोहिना का कहना है कि, अपने बेटे को वापिस पाना उनके लिए किसी सपने के सच होने जैसा है.