पाकिस्तान में मणिशंकर अय्यर ने की जिन्ना की तारीफ, कायद-ए-आजम कहा

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) में जारी विवाद के बीच मणिशंकर अय्यर ने मोहम्मद अली जिन्ना की तारीफ की है. उनके पाकिस्तान और जिन्ना प्रेम ने एक बाद फिर से विवाद को हवा दे दी है. पाकिस्तान में उन्होंने जिन्ना को कायद-ए-आजम कहकर उनकी तारीफ की है.

इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि वर्तमान की एनडीए सरकार ने हिंदुत्व की अवधारणा पेश की है, लेकिन इसका विरोध हो रहा है. अय्यर ने कहा कि उनको बताया गया कि कायद-ए-आजम जिन्ना की तस्वीर को उनके (सरकार) गुंडों ने AMU से हटवा दी है.

मणिशंकर अय्यर आज पाकिस्तान के लाहौर पहुंचे हुए हैं, जहां वो ‘थ्रेट टू सिक्युरिटी इन द 21th सेंचुरी; फाइंडिंग ए ग्लोबल वे फॉरवर्ड’ इंटरनेशनल कॉफ्रेंस में शिरकत करेंगे. इस कॉन्फ्रेंस को लाहौर यूनिवर्सिटी द्वारा आयोजित किया जा रहा है, जिसके “India, Pakistan; Seeking through Truth, Reconciliation and Peace” नामक शीर्षक सत्र के मुख्य प्रवक्ता मणिशंकर अय्यर हैं.

मणिशंकर अय्यर के इस बयान को लेकर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कांग्रेस पर करारा हमला बोला है. उन्होंने ट्वीट किया, ”कांग्रेस और पाकिस्तान के बीच हैरान करने वाली टेलीपैथी है. कल पाकिस्तान सरकार ने टीपू सुल्तान को याद किया, जिसकी जयंती को कांग्रेस धूमधाम से बनाती है और आज मणिशंकर अय्यर ने जिन्ना की तारीफ की.” 

पहले भी पाकिस्तान प्रेम दिखा चुके हैं मणिशंकर अय्यर

यह पहली बार नहीं है, जब मणिशंकर अय्यर का पाकिस्तान प्रेम खुलकर सबके सामने आया है. इससे पहले मणिशंकर अय्यर भारत-पाकिस्तान के रिश्तों में बातचीत की पहल को लेकर PAK की तारीफ कर चुके हैं. कराची में एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे अय्यर ने कहा था, ”मैं पाकिस्तान से प्यार करता हूं, क्योंकि मैं भारत से भी प्यार करता हूं.” इस दौरान उन्होंने भारत और पाकिस्तान के बीच मुद्दों के समाधान के लिए निर्बाध बातचीत की पैरवी भी की थी.

जब उनके पाकिस्तान प्रेम वाले बयान को लेकर भारत में विवाद हुआ, तो उन्होंने कहा, ”मुझे भारत से जितनी नफरत मिलती है, पाकिस्तान से उतना ही प्यार मिलता है. मुझे वे लोग भी हग करते हैं, जिन्हें मैं नहीं जानता. इसलिए मुझे यहां मजा आता है. यहां लोग मेरे लिए तालियां बजाते हैं, क्योंकि मैं शांति की बातें करता हूं.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *