राजीव कुमार से फिर कल होगी पूछताछ

-पहले दिन लगभग 7 घंटे तक सवाल-जवाब
-सीबीआई ने कुणाल घोष को भी आज बुलाया

शिलांग/कोलकाता : सीबीआई ने सारदा चिट फंड घोटाले के सिलसिले में कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार से शिलांग स्थित अपने कार्रालर में शनिवार को पूछताछ पूरी कर ली। पूछताछ करीब 7 घंटे तक चली। एजेंसी ने उन्हें आगे की पूछताछ के लिए फिर रविवार को भी बुलाया है। इस बीच राजीव कुमार के वकील विश्वजीत देव ने एजेंसी को बता दिया है कि सरस्वती पूजा व 12 फरवरी से माध्यमिक की परीक्षा शुुरू होने से उनके लिए अनिश्चितकाल के लिए शिलांग में ठहरना संभव नहीं होगा। वहीं, सीबीआई सूत्रों का दावा है कि पूर्व तृणमूल सांसद कुणाल घोष को भी पूछताछ के लिए रविवार को उपलब्ध होने के लिए कहा गया है। माना जा रहा है कि एजेंसी दोनों को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ कर सकती है।

इससे पहले अधिकारिरों ने बतारा कि कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार, उनके वकील विश्वजीत देव और वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी जावेद शमीम तथा मुरलीधर शर्मा पूर्वाह्न 11 बजे जांच एजेंसी के कार्रालर पहुंचे जहां सुरक्षा के व्रापक बंदोबस्त किए गए थे। उन्होंने बतारा कि कुमार के वकील और दो आईपीएस अधिकारिरों को 30 मिनट के अंदर ही सीबीआई कार्रालर से बाहर जाने को कह दिरा गरा। मेघालर की राजधानी में ओकलैंड इलाका स्थित अति सुरक्षा वाले सीबीआई कार्रालर में कुमार से पूछताछ की गई। रहां सीबीआई के तीन वरिष्ठ अधिकारी दिल्ली से शुक्रवार को पहुंचे थे। राजीव से पूछताछ दोपहर लगभग 12 बजे शुरू हुई। तीन बजे उन्हें मध्यान्ह भोज के लिए छोड़ा गया। उन्हें लेने के लिए जानेव शमीम व मुरलीधर शर्मा वहां पहुंचे लेकिन राजीव सीबीआई दफ्तर से बाहर नहीं निकले। उन्होंने दफ्तर के कैफेटेरिया में ही कुछ समय बिताया। फिल लगभग पौने 4 बजे से उनसे एजेंसी अधिकारियों ने पूछताछ शुरू की।

मालूम हो कि उच्चतम न्रारालर ने मंगलवार को कोलकाता पुलिस प्रमुख को सीबीआई के समक्ष पेश होने और सारदा चिट फंड घोटाले से उपजे मामलों की जांच में सहरोग करने का निर्देश दिरा था। साथ ही न्रारालर ने रह भी स्पष्ट कर दिरा था कि उन्हें गिरफ्तार नहीं किरा जाए। सीबीआई ने शीर्ष न्रारालर में आरोप लगारा था कि सारदा चिट फंड घोटाले की जांच में एसआईटी का नेतृत्व करने वाले कुमार ने इलेक्ट्रॉनिक साक्ष्रों से छेड़छाड़ की और सीबीआई को जो दस्तावेज सौंपे उनमें से कुछ में बदलाव किए हुए थे। शीर्ष न्रारालर ने कुमार को एक न्रूट्रल स्थान शिलांग में जांच एजेंसी के समक्ष पेश होने का निर्देश दिरा ताकि सारे अनावश्रक विवाद से बचा जा सके। उल्लेखनीर है कि सीबीआई के अधिकारी पूछताछ करने के लिए तीन फरवरी को कोलकाता में कुमार के आवास पर गए थे, लेकिन पुलिस ने उनकी कोशिश नाकाम कर दी। सीबीआई की कार्रवाई का विरोध करते हुए मुख्रमंत्री ममता बनर्जी ने तीन दिन तक धरना दिरा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *