Breaking News
Home / Tech / Apps / Sarahah मैसेजिंग ऐप वायरल, नहीं पता चलती मैसेज भेजने वाली की आइडेंटिटी, ऐसे करता है काम

Sarahah मैसेजिंग ऐप वायरल, नहीं पता चलती मैसेज भेजने वाली की आइडेंटिटी, ऐसे करता है काम

इंटरनेट की दुनिया इस समय Sarahah ऐप धूम मचा रहा है. यह ऐप गूगल प्ले स्टोर पर टॉप-4 ट्रेंडिग ऐप है. इसको अब तक 50 लाख से 1 करोड़ लोग डाउनलोड कर चुके हैं. इतना ही नहींगूगल प्ले स्टोरपर  फ्री में डाउनलोड होने वाले ऐप में यह पहले नंबर पर पहुंच गया है. अब आप सोच रहे होंगे कि इस ऐप में ऐसा क्या है जो इसको लेकर इतनी दीवानगी छाई हुई है. दरअसल इस ऐप का नाम अरबी शब्द Sarahah के नाम पर रखा गया है जिसका मतलब होता है कि ‘ईमानदारी’. अब बात करते हैं इस ऐप की खासियत की तो इसके जरिए आप किसी को भी मैसेज भेज सकते हैं लेकिन रिसीव करने वाले को यह नहीं पता लग पाएगा कि किसने भेजा है और न ही वह इसका जवाब दे सकेगा.
 
जब इस तरह के ऐप के बनाने के मकसद पूछा गया तो बताया गया कि इसके माध्यम से कोई भी अपने बारे में दोस्तों और सहयोगियों से सही राय जान सकेगा. Sarahah की वेबसाइट ने बताया कि सही राय जानने के बाद लोग अपनी अंदर की कमजोरियों को दूर कर सकेंगे और लोगों के साथ दोस्ती भी बढ़ा सकेंगे. यह एक लाइट वेट एप्लीकेशन है. इसको डाउनलोड करने के बाद इसमें आपको कस्टम यूआरएल के साथ प्रोफाइल बनाना होगा जैसे (xyz.sarahah.com).इसके बाद आपके पास चार विकल्प मिलेंगे, मैसेज, सर्च एक्सप्लोर और प्रोफाइल. 

हालांकि इस तरह के ऐप से सुरक्षा को लेकर कई तरह के रिस्क सामने आ सकते हैं. इसका इस्तेमाल साइबर क्राइम करने वाले भी कर सकते हैं एक जहां गूगल, फेसबुक, ट्वीटर यूजर की पहचान पुख्ता करने के लिए कई तरह की कोशिशें कर रहे हैं. वहीं यह ऐप बिलकुल विपरीत है. इस ऐप का इस्तेमाल कर लोग किसी को भी धमकी दे सकते हैं. कुल मिलाकर यह क्राइम के लिए बड़ा टूल साबित हो सकता है. इससे पहले भी ऐसा ही एक ऐप शुरू किया गया था लेकिन कई तरह की कानूनी अड़चनों में फंसने के बाद इसको बंद कर दिया गया था. 

About Samagya

Check Also

माँ ममता: आगामी पूजा के लिए दीदी ममता बनर्जी के रूप में बंगाल मंडल दुर्गा को डिजाइन

Share this on WhatsAppआगामी मेगा बोनान्जा के लिए देवी दुर्गा की एक मूर्ति बंगाल के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *