FIFA वर्ल्ड कप: मेसी का बड़ा बयान- मेरा अंतरराष्ट्रीय भविष्य वर्ल्ड कप पर निर्भर

रूस में 14 जून से शुरू होने वाले विश्व कप में दुनियाभर के प्रशंसकों की निगाहें इस पर टिकी होंगी कि क्या फुटबॉल का यह जादूगर अर्जेंटीना को तीसरी बार इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट का खिताब दिलाने में कामयाब हो पाएगा?

विश्व कप में अर्जेंटीना का गौरवशाली इतिहास रहा है. इस दक्षिण अमेरिकी देश ने कुल 16 बार इस टूर्नामेंट में हिस्सा लिया है और दो बार खिताब जीतने में कामयाब रहा, जबकि दो बार उसे फाइनल में हार का मुंह देखना पड़ा है.
ब्राजील में 2014 में हुए विश्व कप के फाइनल में अर्जेंटीना ने मेसी के नेतृत्व में शानदार प्रदर्शन किया था, लेकिन फाइनल मुकाबले में वह जर्मनी के खिलाफ 0-1 से हार गई. इसके अलावा, 1990 के विश्व कप में उसे पश्चिम जर्मनी के खिलाफ भी 0-1 से हार झेलनी पड़ी थी.

अर्जेंटीना ने पहली बार अपने घर में खेलते हुए 1978 में डेनियल पासारीला के नेतृत्व में खिताब पर कब्जा किया था, लेकिन 1986 में टूर्नामेंट का खिताब जीतना फुटबाल प्रशंसकों के लिए सबसे यादगार रहा. 1986 के विश्व कप में दुनिया ने डिएगो माराडोना का जलवा देखा और उन्होंने अपनी कप्तानी में देश को दूसरी बार खिताब दिलाया.

मेसी का बड़ा बयान- मेरा अंतरराष्ट्रीय भविष्य वर्ल्ड कप पर निर्भर

माराडोना के नेतृत्व में अर्जेंटीना ने टूर्नामेंट में अपने से बेहतर टीमों को मात दी. इंग्लैंड के खिलाफ क्वार्टर फाइनल मुकाबला को आज भी ‘माराडोना मैजिक’ के लिए याद किया जाता है. माराडोना के पहले गोल ने बहुत सुर्खियां बटोरीं, वह बॉक्स के अंदर थे और हेडर मारने का प्रयास करते समय गेंद उनके हाथ से लगकर गोल में चली गई, लेकिन रेफरी यह देख नहीं पाए और अर्जेंटीना को 1-0 की बढ़त मिल गई. उस गोल को आज भी ‘गॉड ऑफ हैंड’ के नाम से जाना जाता है.

मौजूदा वर्ल्ड कप के लिए अर्जेंटीना को ग्रुप डी में क्रोएशिया, आइसलैंड और नाइजीरिया के साथ रखा गया है और टीम अपने पहले मुकाबले में 16 जून को आइसलैंड का सामना करेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *