समाज्ञा

Alexa के पीछे रांची के रहने वाले रोहित प्रसाद का है दिमाग

भारत में इन दिनों ऐलेक्सा काफी पॉपुलर हो रहा है. वजह ये है कि ऐमेज़ॉन ने ऐलेक्सा बेस्ड स्मार्ट स्पीकर्स भारत में बेचने शुरू कर दिए हैं. ऐमेज़ॉन का आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस बेस्ड वर्चुअल असिस्टेंट है. ऐलेक्सा बेस्ड कई स्मार्ट स्पीकर्स बाजार में उपलब्ध हैं जिनमें सबसे पॉपुलर Amazon Echo है. ऐसा कह सकते हैं कि ऐलेक्सा के पीछे भारतीय दिमाग है.

झारखंड की राजधानी रांची के रहने वाले रोहित प्रसाद ने ऐलेक्सा में जान फूंकी है. TOI की एक रिपोर्ट के मुताबिक रोहित सिंह पांच साल से ऐलेक्सा के टेक्नोलॉजी डिपार्टमेंट देख रहे हैं. फिलहाल वो कंपनी वाइस प्रेसिडेंट और ऐलेक्सा हेड साइंटिस्ट के तौर पर कार्यरत हैं. 

रोहित सिंह ने अपनी पढ़ाई रांची से की है. TOI की रिपोर्ट के मुताबिक उनका परिवार अभी भी रांची में ही है और वो छह महीने या एक साल में रांची आते रहते हैं. उन्होंने यह भी कहा कि उनके पास स्कूलिंग के बाद आईआईटी रूड़की का ऑप्शन था, लेकिन उन्होंने रांची के ही BIT मेसरा इंजीनियरिंग कॉलेज से पढ़ाई करने का फैसला किया. उन्होंने कहा कि रांची में ही पढ़ाई करने की वजह घर पास होना था.

रोहित ने 1997 में इंजीनियरिंग पूरा किया और फिर अमेरिका चले गए. यहां उन्होंने इलेनॉय इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नॉलॉजी से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में MS किया और यहीं से उनकी दिलचस्पी स्पीच रिकॉग्निशन में हुई.

 

2013 में उन्होंने ऐमेज़ॉन ज्वाइन किया और दो साल पहले उन्हें आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस ऐलेक्सा का हेड साइंटिस्ट बनाया गया है. उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा है, ‘यह सफर काफी रोमांचक रहा है. आप पांच साल पहले देखें तो किसी डिवाइस को बिना टच किए उससे बातचीत करना साइंस फिक्शन जैसा लगता था. हम स्टार ट्रेक (हॉलीवुड सीरीज) के जमाने में बड़े हुए जो हमारे लिए प्रेरणा है.’