197 किलो ड्रग्स के साथ 5 चीनी नागरिक गिरफ्तार – कोलकाता

39 करोड़ के हैं उक्त मादक पदार्थ

दो वर्षों से लगातार कर रहें थे तस्करी

कोलकाता, समाज्ञा

मादक पदार्थों की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तस्की का एक बड़ा मामला प्रकाश में आया है। इस तस्करी का भांडाफोड़ जीआरपी दमदम के जवानों द्वारा किया गया। जानकारी के अनुसार शुक्रवार की रात महानगर के कोलकाता स्टेशन पर 5 चीनी नागरिक पैकेट में मुड़ा हुए कुछ सामानों की अदाबदली कर रहे थे। कोलकाता स्टेशन की ड्यूटी पर तैनात जीआरपी के जवानों को उनपर शक हुआ और वे वहां पहुंचकर तहकीकात करने लगे। संदेह बढ़ने पर पांचों को हिरासत में ले लिया गया और उनसे गहन पूछताछ श्ाुरू की गयी। सुत्रों के अनुसार पहले अभियुक्तों ने बताया कि वे कैंसर जैसी बीमारी की कुछ दवाइयां ले जा रहे हैं। इससे जीआरपी का संदेह बढ़ गया और उन्होंने अभियुक्तों के पास रखे बैग की तलाशी ली। तलाशी के दौरान जीआरपी ने उक्त सभी बैगों से लगभग 20 पैकेट बरामद किये जिनमें कुछ सामग्रियां भर कर रखी हुईं थीं। पैकेट खोलने पर देखा गया कि उनमें कुछ दवाएं रखी हुई हैं। उन दवाओं की जांच में जवानों को ज्ञात हुआ कि उक्त दवा एंफेटामीन है जो एक मादक पदार्थ है और भारत में इस दवा पर प्रतिबंध लगा हुआ है। जानकारी के अनुसार उन दवाओं का वजन लगभग 197 किलो है वहीं भारतीय बाजार में अन दवाओं की कीमत लगभग 39 करोड़ रुपये बताई जा रही है। इन दवाओं के साथ जवानों ने पांचों अभियुक्तों के पास से 11 मोबाइल (5 आई फोन), 60 डेबिट व क्रेडिट कार्ड, 2 भारतीय सिमकार्ड समेत कई चीनी सिमकार्ड, चीनी पास्पोर्ट व कुछ लिफाफे जब्त किये हैं। हालांकि उन लिफाफों में क्या है, इस बात की जानकारी अभी तक नहीं दी गयी है। बताया जा रहा है कि पांचों अभियुक्त चीनी भाषा के अलावा और कोई भाषा नहीं जानते हैं, मगर उनमें से एक अभियुक्त टूटीफूटी अंग्रेजी बोल लेता है। पांचों अभियुक्तों ने जब्त मादक पदार्थों को चीन से भारत लाया था या भारत से चीन ले जा रहे थे, यह अभी जांच का विषय है। वहीं दूसरी ओर अभियुक्तों से पूछताछ में यह पता चला है कि वे वर्ष 2016 से भारत आ रहे हैं और प्रत्येक वर्ष लगभग 4 भार उनका भारत में आनाजाना लगा रहता है। प्राथमिक तौर पर यह अनुमान लगाया जा रहा है कि अभियुक्त पिछले 2 वर्षो से अंतरराष्ट्रीय ड्रग्स तस्करी में शामिल हैं। वहीं एक बड़ा सवाल यह भी है कि आखिर इतनी भारी मात्रा में उक्त मादक पदाथ एयरपोर्ट के सिक्यूरिटी चेक से बिना पकड़ाए कैसे पार हो जाते हैं। फिलहाल इस मामले की जांच पश्‍चिम बंगाल सीआईडी विभाग को सौंप दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *