ट्रेन में सामान हुआ चोरी तो रेलवे ने दिया 5 लाख रुपये का मुआवजा

अगर आप ट्रेन में कहीं जा रहे हैं और आपका सामान चोरी हो जाता है तो ऐसे में आपका परेशान होना लाजमी है, लेकिन आपको ये जानकारी बेहद खुशी होगी कि एक ऐसे ही मामले में देश की उपभोक्ता अदालत ने सामान चोरी होने वाले दंपत्ति के पक्ष में फैसला सुनाया है. साथ ही, रेलवे को 5 लाख रुपये का मुआवजा देने का आदेश भी दिया है. आइए जानते हैं इस मामले के बारे में…

ये हैं मामला
अंग्रेजी न्यूजपेपर टाइम्स आफ इंडिया में छपी खबर के मुताबिक, शैलेशभाई और मीनाबेन भगत जम्मू तवी एक्सप्रेस के 2-टियर एसी कोच में यात्रा कर रहे थे. मथुरा और नई दिल्ली के बीच उनके हैंडबैग चोरी हो गए थे. शैलेशभार्इ का शिपिंग बिजनेस है. पति-पत्नी ने पुलिस में शिकायत दर्ज की थी. लेकिन, इस शिकायत पर उन्हें कोर्इ प्रतिक्रिया नहीं मिली.

रेलवे के खिलाफ उपभोक्ता अदालत में की शिकायत

इसके बाद दोनों ने उत्तर रेलवे को अदालत में खींचने का फैसला किया. दोनों ने जामनगर के उपभोक्ता विवाद निवारण फोरम में उत्तर रेलवे के महाप्रबंधक पर मामला दायर कर दिया. उन्होंने रेलवे से 5 लाख रुपये के मुआवजे की मांग की. कारण है कि इन बैग्स में उनका 2 लाख रुपये का कीमती सामान था.रेलवे ने इस मांग का विरोध किया. उसने इस बात का हवाला दिया कि सामान बुक नहीं किया गया था. लगेज की सुरक्षा सुनिश्चित करना रेलवे की जिम्मेदारी नहीं है. 

कंज्यूमर के हक में आया फैसला
उपभोक्ता अदालत ने रेलवे के तर्कों को खारिज कर दिया. फोरम ने कहा कि रेलवे के टीटी की जिम्मेदारी है कि वह इस बात को सुनिश्चित करे कि कोई भी व्यक्ति जिसके पास टिकट नहीं है, वह आरक्षित कोच में प्रवेश नहीं कर पाए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *