ऑपरेशन के दौरान काटा शिशु का गुप्तांग

  • गुस्साए परिवार वालों ने अस्पताल में की तोड़फोड़
  • मामला आरामबाग के पल्लीश्री स्थित गीता सेवा सदन का

हुगली, समाज्ञा रिपोर्टर

प्रदेश की मुख्यमन्त्री ममता बनर्जी प्राइवेट अस्पतालों के खिलाफ लाख सख्ती क्यों न बरत ले पर प्राइवेट अस्पतालों में डॉक्टर की लापरवाही का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। मुंहमांगे खर्च करने के बाद भी कभी डॉक्टर की लापरवाही से मरीज की मौत होती है तो कभी गलत उपचार से मरीज को काफी नुकसान उठाना पड़ता है. पर आज तो इन सब की हद ही पार हो गयी जब डॉक्टर ने ऑपेरशन के वक़्त एक आठ वर्षीय बच्चे का गुप्तांग ही काट डाला। यह मामला आरामबाग के पल्लीश्री इलाके की है। मामले की जानकारी मरीज के परिवार वालो को मिलते ही अस्पताल परिसर में तीब्र उत्तेजना फैल गयी। यह खबर आग की तरह समस्त इलाके में फैल गयी जिसके बाद लोगों का गुस्सा डॉक्टर और अस्पताल के खिलाफ फुट पड़ा। सैकड़ों की संख्या में गुस्साए लोगों ने अस्पताल में जमकर तोड़फोड़ व हंगामा किया। मामला गीता सेवा सदन का है। खबर मिलते ही काफी संख्या में आरामबाग थाना की पुलिस अस्पताल पहुंची और आरोपी डॉक्टर को गिरफ्तार कर लिया। घटना के बाद से प्राइवेट अस्पतालों के खिलाफ लोगों में तीब्र उत्तेजना है। आरोपी डॉक्टर का नाम जेके मंडल बताया जा रहा है। मिली जानकारी के अनुसार गिरफ्तार डॉक्टर पर फर्जी डिग्री के जरिये यहां पर इलाज करने का भी आशंका जतायी जा रही है। मरीज के परिवार वालों का कहना है कि शिशु के मलद्वार में घाव हुआ था जिसका बुधवार को ऑपरेशन होना था पर मलद्वार की जगह डॉक्टर ने ऑपेरशन कर बच्चे का गुप्तांग ही काट डाला। फिलहाल पुलिस ने इस मामले में हस्तक्षेप करते हुए अस्पताल और डॉक्टर के खिलाफ कार्रवाही करने का आश्‍वाशन दिया है। जिसके बाद मामला शांत हुआ। पीड़ित बच्चे की मां रानू सामंत ने बताया कि कुछ दिन पहले बच्चे को पेंसिल से वहां पर चोट लग गयी थी जिसके बाद उस जगह पर घाव हो गया। जिसका इलाज  डॉक्टर जेके मंडल की देख रेख में उनके प्राइवेट क्लिनिक में चल रहा था। मंगलवार को डॉक्टर ने उनसे कहा कि बच्चे का ऑपेरशन कर घाव को ठीक करना पड़ेगा। इसके लिए प्राइवेट नर्सिंग होम में भर्ती करना होगा। किसी तरह कर्ज लेकर इलाज के लिए रकम का प्रबंध किया गया। ऑपेरशन के बाद जब बच्चे को वार्ड में शिफ्ट किया गया तो उनकी नजर गुप्तांग पर बंधी पट्टी पर पड़ी। डॉक्टर से पूछे जाने पर  ऑपेरशन तो मलद्वार का होना था इसपर डॉक्टर उल्टे उनपर भड़क उठे। इनके बाद उनके संज्ञान में यह बात आई कि डॉक्टर ने गलत ऑपेरशन कर उनके बच्चे का भविष्य अंधकारमय कर दिया। उनकी मांग है कि डॉक्टर को सख्त सजा हो ताकि भविष्य में किसी बच्चे का भविष्य खतरे में न पड़े। उनके बच्चे की जिंदगी तो खराब हो ही गयी। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *