कोलकाता की धरती पर केरल के बाढ़ प्रभावितों ने रखा कदम

राज्य मंत्री फिरहाद केरल से आये लोगो से मिलने हावड़ा स्टेशन पहुंचे
कोलकाता पुलिस भी पहुंचाएगी केरल में राहत सामग्री 
 
कोलकाता -केरल में बाढ़ से प्रभावित सैकड़ों लोग विशेष ट्रेन के जरिए महानगर कोलकाता पहुंचे। दक्षिण पूर्वी रेलवे (दपूरे) के प्रवक्ता ने इस बात की आज जानकारी दी। प्रवक्ता ने बताया कि यात्रियों में अधिकतर राज्य के कामगार थे। यात्री सोमवार की रात हावड़ा स्टेशन पहुंचे। बता दें कि 21 कोचवाली यह विशेष ट्रेन तिरुवनंतपुरम से चली थी। प्रवक्ता संजय घोष ने बताया कि एर्नाकुलम से रवाना हुई दो और ट्रेनें भी शहर पहुंचनेवाली हैं। ज्यादातर कामगार विभिन्न पेशों जैसे कि होटेल कर्मचारी जैसे पेशों से जुड़े थे। ये सभी केरल में विभिन्न जगहों पर फंसे हुए थे। पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा उपलब्ध कराई गई बसों से इन यात्रियों को उनके गंतव्य तक पहुंचाया गया। बता दें कि भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 87 साल के दौरान अगस्त के महीने में ऐसी मूसलाधार बारिश पहली बार हुई है। राज्य ने 100 साल में पहली बार ऐसी बाढ़ देखी है जिसका मंजर भूलना बिलकुल आसान नहीं होगा। बाढ़ का पानी निकलने के बाद राज्य में हुए नुकसान का आकलन करने से पता चलता है कि कितना बड़ा पहाड़ सामने खड़ा है। अंदाजा लगाया जा रहा है कि राज्य को करीब 20,000 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। ऐसे लोगों की कमी नही थी जो अपने शहर में आते ही भवुक हों गये और कुछ लोग तो जार जार रोने भी लगे। पश्चिम बंगाल के 1000 से अधिक लोग रेलवे द्वारा चलाई गई विशेष ट्रेन से सोमवार देर रात कोलकाता पहुंच गए हैं। इन्हें इनके आवास पर पहुंचाने की पूरी व्यवस्था राज्य प्रशासन की ओर से की गई थी। राज्य परिवहन विभाग की ओर से 15 बसें हावड़ा स्टेशन पर तैनात की गई थीं जिसके जरिए मालदा, मुर्शिदाबाद, बांकुड़ा, नदिया आदि जिला में इन्हें मुफ्त में पहुंचाया गया है। राज्य के शहरी विकास मंत्री फिरहाद हकीम रात 2:00 बजे तक स्टेशन पर मौजूद थे| उन्होंने इस ट्रेन से आने वाले सभी लोगों को सुरक्षित पहुंचाने की व्यवस्था की। फिरहाद ने बताया कि केरल की बाढ़ में 2,000 से अधिक लोग फंसे हुए हैं। इन्हें सुरक्षित निकालने के लिए राज्य सरकार के विशेष अनुरोध पर दक्षिण पूर्व रेलवे ने केरल के तिरुवनंतपुरम से एक विशेष ट्रेन चलाई थी जिसमें सवार होकर लोग देर रात 12:00 बजे के बाद हावड़ा स्टेशन पर उतरे। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के विशेष निर्देश पर फिरहाद वहां पहले से ही स्टेशन पर मौजूद थे। रेलवे और राज्य प्रशासन के अधिकारियों के समन्वय के बाद केरल से लौटे इन सभी लोगों को राज्य परिवहन विभाग की बसों में बैठाकर राज्य के विभिन्न जिलों में उनके आवास की ओर रवाना कर दिया गया। फिरहाद ने बताया कि किसी को भी किराया नहीं देना पड़ेगा एवं और भी 1000 से अधिक लोग ट्रेन से आने वाले हैं। उन्हें सुरक्षित उनके आवास पर पहुंचा दिया जाएगा। ज्ञात हो कि केरल की भीषण बाढ़ में 400 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है जबकि लाखों लोग इस बाढ़ में फंसे हैं। हजारों हेक्टेयर की फसलें बर्बाद हो चुकी हैं।
इधर केरल में बनी भीषण बाढ़ की स्थिति में फंसे लाखों लोगों के लिए राजधानी कोलकाता और अन्य क्षेत्रों से एकत्रित की गई राहत सामग्रियों को कोलकाता पुलिस पीड़ित लोगों तक पहुंचाएगी। पुलिस आयुक्त राजीव कुमार ने इस बारे में आश्वासन दिया है। मंगलवार को यह जानकारी एक वरिष्ठ अधिकारी ने दी। बताया गया है कि कोलकाता और आसपास रहने वाले मलयाली और केरल के लोगों ने बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए कोलकाता में फंड और अन्य राहत सामग्री एकत्रित की है। इन लोगों ने कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार से मिलकर यह जानकारी दी थी कि केरल में बाढ़ की वजह से यातायात व्यवस्था पूरी तरह से ठप हो गई है| इसे पीड़ितों तक पहुंचाना उनके लिए संभव नहीं हो पा रहा है। इसके बाद राजीव कुमार ने उन्हें मदद का आश्वासन दिया।पुलिस आयुक्त ने साफ किया है कि कोलकाता और आसपास एकत्रित होने वाली सामग्रियों को कोलकाता के पुलिस ट्रेनिंग स्कूल में एकत्रित किया जाएगा एवं यहां से कोलकाता पुलिस के विमान या अन्य जरिए से इसे केरल में आपदा पीड़ितों तक पहुंचा दिया जाएगा। बताया गया है कि गुरुवार को राहत सामग्रियों को केरल के लिए रवाना किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *