अभी तक रथ यात्रा की अनुमति नहीं

-अदालत की शरण में जाएगी भाजपा

कोलकाता : प्रदेश भाजपा ने आरोप लगाया है कि पार्टी की ओर से दिसम्बर में प्रस्तावित रथ यात्राओं को सरकार के दबाव में प्रशासन की ओर से अनुमति नहीं मिल रही है। सरकारी स्तर पर नवान्न से हरी झंडी नहीं मिलने की दुहाई देते हुए स्थानीय प्रशासन भी हाथ पर हाथ धरे बैठा है। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने आरोप लगाया है कि पार्टी की ओर से बार-बार मुख्य सचिव व गृह सचिव के साथ सभी संबंधित विभागों को रथ यात्रा की अनुमति के लिए पत्र लिखे गए लेकिन अभी तक सरकार की ओर से कोई भी जवाब नहीं मिला है। इससे पार्टी की तैयारी प्रभावित हो रही है। इसलिए पार्टी ने अब देर नहीं कर अदालत का दरवाजा खटखटाने के विकल्प पर विचार करने का फैसला किया है।

मालूम हो कि लोकसभा चुनाव के मद्देनजर भाजपा ने इस बार पश्‍चिम बंगाल पर काफी जोर दिया है। पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने प्रदेश नेताओं के लिए बंगाल से 22 सीटें जीतने का लक्ष्य रखा है। हालांकि, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष व चुनाव प्रचार कमेटी के चेयरमैन मुकुल राय के बीच विचार आपस में मेल नहीं खा रहे हैं। घोष, मुकुल की रणनीति के साथ सहमति नहीं जता रहे हैं। इतना ही नहीं घोष के करीबी नेता मुकुल राय के घर पर लोकसभा चुनाव के लिए वॉर रुम(कंट्रोल रुम) बनाने के फैसले से सहमत नहीं है। उनका कहना है कि प्रदेश कार्यालय के रहते किसी नेता विशेष के घर कंट्रोल रुम क्यों बनाया जा रहा है??इस बीच रथ यात्रा को लेकर सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस व भाजपा नेताओं के बीच वाक्युद्ध छिड़ गया है। युवा तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष अभिषेक बनर्जी ने कहा है कि ममता बनर्जी अगर अनुमति दें तो भाजपा के रथ यात्रा का पहिया घूमने नहीं देंगे। वहीं, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने धमकी दी है कि रथ यात्रा को रोकने की कोशिश करने वालों की तस्वीरें घरों में टंगी मिलेंगी। प्रदेश महिला मोर्चा अध्यक्ष लॉकेट चटर्जी ने भी धमकी दी है कि रथ यात्रा को रोकने की कोशिश करने वालों के पहिए के नीचे कुचल दिया जाएगा। ऐसे में भाजपा के 5, 7 व 9 दिसम्बर के प्रस्तावित रथ यात्रा की अनुमति को लेकर संशय की स्थिति बरकरार है। रथ यात्राओं को पार्टी अध्यक्ष अमित शाह शुरू करने वाले हैं। रथ यात्रों के समापन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कोलकाता में पार्टी की रैली को संबोधित करने की संभावना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *