सिल्चर मेेें तृणमूल नेताओं को पुलिस ने रोका

-आारोप, महिला सदस्यों के साथ मारपीट-हाथापाई
सिलचर/कोलकाता : असम एनआरसी के मुद्दे पर भाजपा व तृणमूल कांग्रेस की सड़क पर जारी जंग अब असम तक पहुंच गया है। और यह संग्राम गुरुवार को तब और भी भड़क गया जब एनआरसी के पूर्ण मसौदे के प्रकाशन के आलोक में असम की स्थिति का जारजा लेने के लिए वहां पहुंचे तृणमूल कांग्रेस के एक प्रतिनिधिमंडल को हवाई अड्डे पर ही पुलिस द्वारा रो दिरा गरा। प्रतिनिधिमंडल के सदस्र सुखेंदु रॉर ने कहा कि पुलिस ने उनके पहुंचने के तत्काल बाद ही हवाई अड्डे पर उन्हें रह कहकर रोक दिरा कि उनकी रात्रा से समस्रा खड़ी हो सकती है। वहीं, दल की अहम सदस्य व सांसद काकली घोष दस्तीदार ने आरोप लगाया कि पुलिस ने दल के महिला सदस्यों ममताबाला ठाकुर(सांसद), महुआ मैत्र(विधायक) के साथ मारपीट की गई। उनके व सुखेंदु शेखर राय(सांसद) के साथ भी मारपीट हुई। पुलिस ने उनका मोबाइल फोन तक ले लिया। हम धरना पर बैठे हैं।
तृणमूल सांसद दस्तीदार ने आरोप लगाया कि हवाई अड्डे पर पहुंचते ही हमें घेर लिया गया। हमें एक कमरे में बंद कर दिया गया। हमारे साथ भी र्दुव्यवहार किया गया। विधायद फिरहाद हकीम को भी हवाई अड्डे से निकलने नहीं दिया गया।सांसद डोला सेन ने कहा कि वे वहां कानून तोड़ने नहीं गए थे। हम स्वयं कानून बनाने वाले हैं। दल में सांसद व विधायक हैं। फिर हम कानून तोड़ने वाले कैसे हो सकते हैं। भाजपा ने यहां अघोषित आपातकाल रखा है।
नशे में धूत्त कांस्टेबल ने दिया धक्का ः सुखेंदु शेखर राय ने कहा कि हम यहां धरना पर बैठे हैं। जब तक हमें हवाई अड्डे से बाहर नहीं निकलने दिया जाता, हम यहां बैठे रहेंगें। यह केंद्र व असम सरकार की साजिश है। उन्होंने कहा कि वे एक दिल के मरीज हैं। उन्हें पेस मेकर लगाया गया है। फिर भी शराब के नशे में धूत्त एक कांस्टेबल ने धक्का दिया। हम हवाई अड्डे पर ही धरना पर बैठे हैं। हमें यहां जबरन रोका गया है। मालूम हो कि मुक्यमंत्री ममता बनर्जी, भाजपा नीत केंद्र की भाजपा सरकार पर एनआरसी के मुद्दे पर वोट बैंक की राजनीति करने का आरोप लगा रही हैं और कह रही हैं कि भारतीर नागरिक अपनी ही जमीन पर शरणार्थी बन गरे हैं।
कानून-व्यवस्था के चलते रोका : इस बीच तृणमूल प्रतिनिधि दल के सदस्यों को सिल्चर हवाई अड्डे पर पुलिस द्वारा रोके जाने के बाद हुए विवाद पर सफाई देते हुए असम पुलिस के डीजी कुलाधर सैकिया ने पत्रकारों को बताया कि किसी सदस्य के साथ कोई गलत अचरण नहीं हुआ। सभी को वहां कानून-व्यवस्था बिगड़ने की आशंका के मद्देनजर रोका गया है। उनसे वापस जाने का अनुरोध किया गया है। उन्हें पुलिस ने गेस्ट हाउस में रखा है। वहीं, आधिकारिक सूत्रों ने बतारा कि बराक घाटी क्षेत्र के कछार जिले में रहां कुंभीग्राम हवाई अड्डे पर तृणमूल प्रतिनिधिमंडल वीआईपी विश्रामालर में ठहरा है। प्रतिनिधिमंडल में छह सांसद हैं। कछार जिला प्रशासन ने बुधवार देर रात ही सीआरपीसी की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा जारी की थी और जिले में एनआरसी प्रक्रिरा से असंबद्ध किसी भी व्रक्ति के प्रवेश पर रोक लगा दी थी। तृणमूल प्रतिनिधिमंडल पार्टी सुप्रीमो और मुख्रमंत्री ममता बनर्जी के निर्देश पर वहां गरा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *