समाज्ञा

एटीएम स्कीमिंग कांड से ग्राहकों में आतंक – कोलकाता

घर के सभी सदस्यों के एटीएम कर रहे हैं ब्लॉक
कोलकाता : वर्ष 2018 की शुरुआत भले ही कैसी भी रही हो, मगर इस वर्ष के बीच का समय कोलकाता वासियों के लिए एक बुरे सपने जैसा ही है। कुछ गिने चुने साइबर ठगों ने महानगर में ऐसा आतंक फैलाया कि लोगों का बैंकों में जमा किये गये अपनी पूंजि की सुरक्षा को लेकर सवाल खड़े हो गये। एकाएक महानगर के लगभग 82 लोगों के बैंक खातों से लाखों रुपये की निकासी की गयी। इस घटना से पूरे महानगर में हाहाकार मच गया। तत्परता दिखाते हुए कोलकाता पुलिस हर्कत में आई और कार्रवाई कर 8 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया जिनमें से 5 रोमानिया के नागरिक और 3 मुंबई के रहने वाले हैं। मुंबई के अभियुक्तों के पास से पुलिस को 100 से अधिक लोगों के एटीएम कार्ड के डेटा बरामद हुए। मगर कोलकाता पुलिस द्वरा लगातार धड़पड़क के बाद भी पीड़ित ग्राहकों के साथ-साथ अन्य लोग भी खौफ में हैं। आलम यह है कि अब लोग एटीएम काउंटरों से रुपये निकालने से पहले कई बार सोचते हैं, कई तो एटीएम मशीन में कार्ड डालने वाली जगह को ठीक से परख कर फिर रुपये निकालते हैं। वहीं दूसरी ओर ओर कुछ ऐसे लोग हैं जिन्होंने एटीएम कार्ड का इस्तेमाल ही बंद कर दिया है। उन लोगों ने न केवल अपना बल्कि अपने घर के सभी सदस्यों के एटीएम कार्ड को ब्लॉक करवा दिये हैं। इस विषय को ले कर कुछ पीड़ित ग्राहकों से बात करने पर उनका डर साफ झलक रहा था। बालीगंज गार्डन्स की रहने वाली अनिंदिता मुखर्जी ने बताया कि पूरे परिवार के लोगों में एक भय घर कर गया है। सभी एटीएम काउंटरों पर जाना बंद कर दिया है। वहीं घटना के बाद घर से सदस्यों ने अपने एटीएम कार्ड को तुरंत ब्लॉक करवाया। मोचिपाड़ा इलाके के रहने वाले राहुल प्रसाद वर्मा ने बताया कि उनके अकाउंट से रुपये निकाले जाने के बाद उन्होंने अपना एटीएम कार्ड ब्लॉक करवा दिया। वे अपने माता-पिता व पत्नी के साथ रहते हैं। उनके माता-पिता एटीएम कार्ड का इस्तेमाल नहीं करते हैं मगर उनकी पत्नी के पास एटीएम कार्ड है। इस घटना के बाद से उन्होंने अपनी पत्नी के एटीएम कार्ड को भी ब्लॉक करवा दिया है। वहीं उन्होंने नये एटीएम कार्ड के लिए बैंक से आवेदन किया है। वहीं अमित कुमार मुखर्जी ने बताया कि उनकी पत्नी के अकाउंट से रुपये की निकासी के बाद उन्होंने घर के सभी सदस्यों के एटीएम कार्ड को ब्लॉक करवा दिया है। इस वजह से बैंक खाते से रुपये निकालने में परेशानी हो रही है मगर यह खतरा मोल लेने से कई बेहतर है।


लोग ताक रहे हैं रुपये वापस आने की राह
जिन ग्रहकों के बैंक खातों से एटीएम स्कीमिंग के जरिए रुपये निकाले गये थे उनके रुपये जल्द से जल्द वापस करने की हिदायत दी गयी थी। बताया जा रहा है कि कैनरा बैंक ने अपने ग्राहकों के रुपये वापस लौटा दिये हैं। मगर अब भी कुछ ऐसे ग्राहक हैं जो अपने रुपये के वापस लौटने की राह तक रहे हैं। राहुल प्रसाद वर्मा ने बताया कि उनका अकाउंट एसबीआई के मोचीपाड़ा ब्रांच में है। उन्होंने नें भी गोलपार्क स्थित कैनरा बैंक के एटीएम काउंटर का इस्तेमाल किया था और एटीएम स्कीमिंग के शिकार बनें। उन्होंने बताया कि वैध कागजात जमा करने के बाद भी अब तक उनके रुपये वापस नहीं आए। उन्होंने कहा कि कैनरा बैंक ने केवल अपने ग्राहकों के रुपये लौटाए हैं। अन्होंने आगे बताया कि घटना के संबंध में अन्होंने अपने बैंक शाखा में संपर्क किया मगर उन्हें केवल आश्‍वासन ही मिला। वहीं कई दिन गुजरने के बाद भी रुपये वापस न आने पर थाना द्वारा उनकी शिकायत को एसबीआई के हेड ऑफिस में भेज दिया। राहुल का आरोप है कि कई बार संपर्क करने के बावजूद बैंक प्रबंधन द्वारा रुपये लौटाने की पुख्ता जानकारी नहीं दी जा रही है। वहीं अमित ने बताया कि उनकी पत्नी के कैनरा बैंक व एसबीआई बैंक, दोनों खातों से रुपये निकाले गये थे। शिकायत करने पर कैनरा बैंक ने निकासी के 4 हजार रुपये वापस कर दिये मगर एसबीआई बैंक से निकासी के 30 हजार रुपये अभी तक वापस नहीं आए हैं। उन्हें बैंक के शाखा में एक फॉर्म भरने को कहा गया था जिसे भरने के बाद उनसे इंतेजार करने की अपील की गयी है।