उत्तर दिनाजपुर में स्कूली छात्रा की सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या, घटना के विरोध में लोगों ने किया प्रदर्शन

आक्रोशित लोगों ने कई गाड़ियों को किया आग के हवाले

उत्तर दिनाजपुर : पश्चिम बंगाल के उत्तर दिनाजपुर जिले में कथित तौर पर एक भाजपा विधायक की हत्या के बाद फिर एक शर्मनाक वारदात सामने आई है। इस बार, उत्तर दिनाजपुर के कालागाछ में एक नाबालिग स्कूली छात्रा की कथित तौर पर सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गई है। इस घटना के बाद, आक्रोशित लोगों ने कई गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया। जानकारी के अनुसार, रविवार की दोपहर करीब 2 बजे कोलकाता से सिलीगुड़ी को जोड़ने वाले एनएच-31 पर विरोध दर्ज करने के लिए जमा हुए लोग आक्रोशित हो गए और उन्होंने सड़क पर जाम लगा दी और कई गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया। लगभग दो घंटे तक पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने की कोशिश की, लेकिन लोग उग्र हो गए। इसके बाद, पुलिस को लाठीचार्ज का सहारा लेना पड़ा। इस दौरान, पुलिस ने आंसू गैस के गोले भी दागे। करीब 2 बजे शुरू हुई यह हिंसा कई घंटों तक चली और उस दौरान, कम से कम तीन बसों और पुलिस वाहनों को प्रदर्शनकारियों ने आग के हवाले कर दिया। पुलिस का मानना था कि शाम 5 बजे तक उन्होंने भीड़ को तितर-बितर कर दिया, लेकिन प्रदर्शनकारी वहां से थोड़ी दूर चले गए और धनुष और तीर से पुलिसकर्मियों को ही निशाना बनाना शुरू कर दिया। अंत में, पुलिस ने स्थिति को काबू में किया। पुलिस ने पीड़िता के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। छात्रा की मौत की जांच शुरू कर दी गई है।


क्या है मामला
उत्तर दिनाजपुर जिले के चोपड़ा थाना अंतर्गत कालागछ गांव निवासी पश्चिम बंगाल मध्य शिक्षा परिषद से माध्यमिक की परीक्षा उतीर्ण छात्रा को शनिवार की रात घर से अगवा कर लिया गया। फिर, उससे सामूहिक दुष्कर्म किया गया। इसके बाद, उसकी हत्या कर दी गई। रविवार की सुबह स्थानीय चाय बागान से सटे एक बरगद के पेड़ के नीचे उसका शव मिला। पुलिस सूत्रों के अनुसार, घटनास्थल से पुलिस को दो साइकिल, आधार कार्ड, दो छतरी और एक मोबाइल फोन बरामद हुआ है। इसके बाद, इलाके के लोगों ने घटना के विरोध में राज्य सड़क और एनएच-31 को अवरोध कर दिया और दोषियों को सजा देने की मांग की है। स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए पुलिस को लाठी चार्ज करने के साथ-साथ आंसू गैस के गोले दागने पड़े। वहीं, सांसद राजू बिष्ट ने राज्यपाल व केंद्रीय गृह मंत्री से किसी केंद्रीय एजेंसी से घटना की जांच कराने की मांग की है। वहीं, मुख्यमंत्री के निर्देश पर आज राज्य मंत्री गौतम देव पीड़ित पक्ष से मुलाकात करने जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *