सीए की मई परीक्षा रद्द, इसे नवंबर की परीक्षा में समाहित किया जायेगा: आईसीएआई

नयी दिल्ली : भारतीय सनदी लेखाकार संस्थान (आईसीएआई) ने सोमवार को उच्चतम न्यायालय को सूचित किया कि देश में कोविड-19 के मामलों की बढ़ती संख्या के मद्देनजर मई चक्र के लिये 29 जुलाई से 16 अगस्त के दौरान प्रस्तावित सीए की परीक्षाएं रद्द कर दी गयी हैं।

न्यायमूर्ति ए.एम. खानविलकर की अध्यक्षता वाली पीठ को वीडियो कांफ्रेन्सिंग के माध्यम से आईसीएआई के वकील ने सूचित किया कि मई चक्र की परीक्षा को अब नवंबर, 2020 चक्र की सीए परीक्षा में समाहित कर दिया जायेगा।

पीठ सीए की परीक्षा को लेकर उस याचिका पर सुनवाई कर रही थी जिसमें आईसीएआई द्वारा उम्मीदवारों को दिए गए ‘नहीं अपनाने (ऑप्ट आउट)’ के विकल्प को चुनौती दी गई थी। ‘इंडिया वाइड पेरेंट्स एसोसिएशन’ द्वारा इस याचिका में आरोप लगाया गया था कि यह विकल्प सीए की मई माह में होने वाली परीक्षा देने के इच्छुक अभ्यर्थियों के लिए पक्षपातपूर्ण है।

याचिका में देश में इस परीक्षा के लिये और अधिक केन्द्र बनाने का निर्देश देने का भी अनुरोध किया गया था।

पीठ ने अपने आदेश में कहा, ‘‘आईसीएआई द्वारा छह जुलाई, 2020 को दाखिल अतिरिक्त हलफनामे के मद्देनजर जिसके अनुसार जुलाई, 2020 में होने वाली परीक्षा रद्द कर दी गयी है, इस याचिका में विचार के लिये अब और कुछ नहीं बचा है।’’

हालांकि, याचिकाकर्ता के वकील अलख आलोक श्रीवास्तव ने सीए की परीक्षाओं से संबंधित कुछ पहलुओं की ओर न्यायालय का ध्यान आकर्षित किया।

पीठ ने याचिकाकर्ता को इस संबंध में आईसीएआई को अपना प्रतिवेदन देने की अनुमति प्रदान की और कहा कि यह मिलने के बाद चार सप्ताह के भीतर इस पर फैसला किया जाये।

इससे पहले, न्यायालय ने 29 जून को कहा था कि कोविड-19 महामारी के बीच आईसीएआई को परीक्षाओं का आयोजन करने में लचीला रूख अपनाना चाहिए और उम्मीदवारों की चिंताओं का भी ध्यान रखना चाहिए।

शीर्ष अदालत ने कहा था कि आईसीएआई को ‘‘नहीं अपनाने’’ और परीक्षा केंद्र के बदलाव के विकल्प पर भी लचीला रूख अपनाना चाहिए क्योंकि महामारी को लेकर परिस्थितियां लगातार बदल रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *