बुआ-भतीजा बंगाल को लूट रहे : मोदी

कोलकाता : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सिलीगुड़ी में तृणमूल सुप्रीमो ममता बनर्जी पर जो हमला बोला था, वह ब्रिगेड परेड ग्राउंड में आते-आते तृणमूल सुप्रीमो, उनके भतीजे अभिषेक बनर्जी, मंत्रियों, नेताओं आदि पर चिटफंड घटालों के मुद्दे पर घेरने तक ही सीमित हो कर रह गया। हालांकि, सिलीगुड़ी में ममता को विकास का स्पीड ब्रेकर बताने वाले मोदी यहां उन पर आरोप लगाया कि कि बुआ-भतीजे ने बंगाल को लूटा है। इसके अलावा उन्होंने सारा समय केवल अपनी सरकार की उपलब्धियों का बखान करने व कांग्रेस-माकपा को कोसने में ही गवां दिया। कुल मिलाकार ममता के खिलाफ जिस तीखापन की उम्मीद लिए भाजपा कार्यकर्ता ब्रिगेड पहुंचे थे, बुधवार को उन्हें थोड़ी निराशा ही हाथ लगी।

मोदी ने अपने पुराने अंजाद में कहा कि गरीबों को मुफ्त इलाज देना गुनाह है, तो ये गुनाह मैने किया है। बांगाल में एक मंच पर कुछ लोगों को कहते सुना था मोदी हटाओ, मोदी हटाओ। देश के हर कोने से लोगों को इकठ्ठा किया था, अलग अलग राज्यों से नेता बंगाल आए सिर्फ इसलिए कि मोदी हटाओ। उन्होंने पूछा, अरे मोदी ने ऐसा क्या गुनाह किया?  मोदी ने कहा कि आपका ये चौकीदार कांग्रेस के ढकोसला पत्र और देश की सुरक्षा के बीच एक दीवार बन कर खड़ा है। अपने वोट बैंक के लिए तुष्टीकरण की अपनी नीति की वजह से कांग्रेस हमेशा आतंकवाद के प्रति सिर झुकाती रही है। नर्म रही है। हमारे वीर जवानों के पास सर्जिकल स्ट्राइक करने का सामर्थ्य पहले भी था। हमारे वैज्ञानिकों के पास अंतरिक्ष में सैटेलाइट को मार गिराने का सामर्थ्य पहले भी था। अगर कुछ नहीं था तो तब की सरकार की नीयत नहीं थी। उनकी हिम्मत नहीं थी। आज कुछ लोग हैं जो मोदी का विरोध करते-करते मां भारती का विरोध करने लगे हैं।

एयर स्ट्राइक पर घेरा : मोदी ने पूछा कि एयर स्ट्राइक पर शक कौन कर रहा था? सेना को निराश कौन कर रहा था? ये किसने कहा था कि आतंकियों की लाशें दिखाओं? सपूतों से सबूत मांगने का पाप कौन कर रहा था? चाहे सर्जिकल स्ट्राइक, चाहे एयर स्ट्राइक हो, चाहे अंतरिक्ष में स्ट्राइक हो, हर क्षेत्र में आज नए भारत की ठोस नींव तैयार हो रही है और ये सबकुछ आपके वोट के कारण संभव हो सका है। आपके कारण नामुमकिन भी आज मुमकिन बना है। बंगाल की कविता और क्रांति का रिश्ता दुनिया में अनूठा है। विद्यापति, चंडीदास, जयदेव और गुरूदेव ने बंगालियों की आवाज को मधुरता दी तो वहीं खुदीराम बोस, सूर्य सेन और नेताजी बोस सहित अनेक वीर-वीरांगनाओं ने क्रांति को आत्मा दी।

प्रतिभा ने वंशवाद के नीचे दम तोड़ा : कांग्रेस व तृणमूल पर बरारबर हमला करते हुए कहा कि 55 साल के परिवार तंत्र में युवा प्रतिभाओं ने वंशवाद के नीचे दम तोड़ दिया। 55 साल के परिवार तंत्र में मेहनत का गला भ्रष्टाचार ने घोट दिया। 55 साल के परिवार तंत्र में गरीब के सपनो को वोट बैंक ने कुचल दिया। वे लोगों से आग्रह करते हैं कि ये तृणमूल ने लेफ्ट से बम बंदूक का जो कल्चर उधार पर लिया है उसको परास्त करने का मौका है। अन्नदाता की आय को दौगुनी करनी है। सेना का आधुनिकीकरण कर मज़बूत बनाना है। स्पेस हो विज्ञान, 72 साल की कमियों को पूरा कर दुनिया में सबसे आगे जाना है।

निराशा-जड़ता से निकालना है : नरेंद्र मोदी ने कहा कि 72 साल की निराशा और जड़ता से देश को बाहर निकालना है। हर टैलेंट, चाहे वो ग़रीब हो या अमीर के लिए इस देश में अवसर पैदा करने है। देश के कोने कोने में आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्टर खड़ा करना है। इस बंगाल की धरती का मुझ पर बहुत ऋण है। जीवन के एक पड़ाव में, वेजब सारी दुनिया दारी छोड़कर वैराग्य की और बढ़ रहा था तो इसी बंगाल की धरती ने उन्हेें आदेश दिया की इस देश की सेवा ही उनकी नियति है। 55 साल के परिवार तंत्र ने सेना के शोर्य को दलाली का ग्रहण लगा दिया। 55 साल के परिवार तंत्र ने देश के लोगों के त्याग और देशभक्ति को कुंठित कर दिया। 2014 में आपके वोट के कारण हम देश की मजबूत बुनियाद का निर्माण कर पाए। 2019 में आपके वोट से एक नए भारत की दिव्य इमरात का निर्माण होगा। 2014 में आपके वोट के कारण सरकार की प्राथमिकता फैमिली फर्स्ट से बदलकर इंडिया फर्स्ट हुई। 2019 में आपके वोट से भारत वैश्‍विक स्तर पर फर्स्ट होने का प्रयास करेगा।

2019 में भ्रष्टाचारी जेल के अंदर : मोदी ने कहा कि 2014 में जनताके वोट से भ्रष्टाचारी जेल के दरवाजे तक पहुंचे। 2019 में जनता वोट से भ्रष्टाचारी जेल के अंदर जाएंगे। 2014 में जनता के वोट के कारण हम गड्ढों को भर पाए। 2019 में जनता के वोट से विकास का हाईवे बनेगा। 2014 में जनता के वोट के कारण आतंकवाद को मुंहतोड़ जवाब मिला। 2019 में जनता का वोट आतंकवाद को खत्म करने में एक बड़ी भूमिका निभाएगा। हमारी सरकार जो संकल्प लेती है तो उसे सिद्ध करती है। 5 वर्ष पहले किसी ने सोचा था क्या कि 5 लाख तक का इनकम टैक्स माफ हो जाएगा, लेकिन नामुमकिन अब मुमकिन है। 5 वर्ष पहले किसी ने सोचा था क्या कि गरीबों को 10% आरक्षण मिलेगा, लेकिन नामुमकिन अब मुमकिन है। गरीबों को घर देना गुनाह है क्या? अगर ये गुनाह है तो ये गुनाह मैने किया है। गरीबों को शौचालय देना गुनाह है तो ये गुनाह मैने किया है। गरीबों को रसोई गैस देना गुनाह है तो ये गुनाह मैने किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *