सरकार कोई जादूगर व भगवान नहीं : ममता बनर्जी

कोलकाता : क्वारंटाइन सेंटरों पर एकाधिक आरोप व विरोध प्रदर्शन को लेकर गुरुवार को नवान्न में संवाददाताओं को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भड़क गईं। उन्होंने कहा कि सरकार कोई जादूगर व भगवान नहीं है। क्यों लगातार इसी राज्य को निशाना बनाया जा रहा है। उन्होंने कहा बंगाल जिस तरह से बगैर किसी के सहयोग से काम कर रहा है, वह कोई और राज्य सरकार नहीं कर रही है। उन्होंने राज्य वासियों के संदर्भ में कहा कि सरकार और कितना करेंगी? मुफ्त में इलाज, विभिन्न योजनाओं के माध्यम से रुपया, निःशुल्क राशन और अम्फान राहत, इतना सब कैसे संभव है? बावजूद सरकार हर संभव कोशिश करने में लगी हुई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि क्वारंटाइन सेंटरों में सुविधाएं मिल रही हैं। फिर भी बहुत से लोग विभिन्न आरोप लगाते हुए प्रदर्शन कर रहे हैं। सीएम ने कहा नियम मानकर चलें। सरकार की भी कुछ सीमाएं हैं।

  • मेरे शरीर में ही चूल्ही बनाकर कोरोना मृतकों को जला दो
    कोरोना से मृत देह के दाह संस्कार की जगह एवं अस्पताल के निर्माण में कई लोगों की बाधा पर मुख्यमंत्री नाराजगी जाहिर की हैं। इस संबंध में, मुख्यमंत्री ने कहा कि मेरे शरीर में ही चूल्ही (भट्टी) बनाकर उन शवों को जला दो।
  • ममता ने फिर केंद्र पर लगाया असहयोगिता का आरोप
    इस दिन, बैठक में मुख्यमंत्री ने केंद्र पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि एक मात्र बंगाल ही ऐसा राज्य है जिसे केन्द्र की तरफ से कोई सहयोग नहीं मिला। बावजूद राज्य सरकार ने अब तक किसी का रुपया नहीं रोका है। राज्य के सभी सरकारी कर्मचारी हर महीने वेतन पा रहे हैं। सीएम ने कहा कि राज्य सरकार कोरोना से निपटने के लिए हर संभव कोशिश कर रही है। कोविड अस्पतालों की संख्या बढ़ रही है। फिर भी कुछ लोग हैं, जो निंदा करने से नहीं चूक रहे हैं। कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए केंद्र से असहयोग का आरोप लगाते हुए, मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र ने बंगाल को क्या दिया हैं? हमने सोचा था कि हमें 10 हजार वेंटिलेटर मिलेंगे। नि: शुल्क दवा, पीपीई मिलेंगे। लेकिन, केंद्र ने क्या दिया हैं? और जो दिया है क्या वह मार्च से अभी तक चल जाएगा?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *