मोदी ‘एक्सपायरी’ प्रधानमंत्री : ममता

-कहा, देश बचाने के लिए एक्सपायरी बाबू को बदलें

-तंज, पहले दिल्ली संभालो फिर देखना बंगाल के सपने

-चुनौती, बंगाल की 42 में एक भी सीट जीत कर दिखाए

कोलकाता/दिनहाटा : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सिलीगुड़ी में ममता बनर्जी को विकास में स्पीड ब्रेकर दीदी बनने का आरोप लगाया था। वहीं, दोपहर बाद ब्रिगेड में मोदी ने ममता को पुलवामा हमला के बदले में भारत द्वारा पाकिस्तान में किए गए एयर स्ट्राइक के मुद्दे पर साधने की कोशिश की। दोनों सभाओं में मोदी ने ममता पर एक के बाद एक कई गंभीर-गंभीर शब्दवाण दागे तथा जनता से उनके खिलाफ वोट करने की अपील की। जवाब में दिनहाटा में सभा को संबोधित करते हुए तृणमूल सुप्रीमो व मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मोदी के हर सवाल का तीखा-तीखा जवाब दिया। मोदी को ‘एक्सपायरी’ प्रधानमंत्री कहते हुए ममता ने कहा कि अब वे मोदी को प्रधानमंत्री नहीं, बल्की एक्सपायरी प्रधानमंत्री कहेंगीं। वे अब प्रधानमंत्री नहीं हैं। साथ ही उन्होंने जनता से अपील की कि देश बचाने के लिए एक्सपायरी बाबू को बदलें क्योंकि मोदी फासिस्ट हैं। ममता ने भाजपा के बंगाल में जीतने के दावे कोे सपना कहते हुए कहा कि भाजपा व मोदी पहले दिल्ली को संभाले फिर बंगाल के बारे में सपना देखे। उन्होंने जोर देकर दावा किया किया बंगाल में तृणमूल की सभी 42 सीटों पर जीत मिलेगी। ममता ने चुनौती देते हुए कहा कि भाजपा, बंगाल में 42 में से एक भी सीट जीत कर दिखाए। तृणमूल सुप्रीमो ने काफी तीखे तेवर में कहा कि ‘टच मी इन यू कैन, कैच मी इफ यू कैन’।

नो एनआरसी : ममता ने कहा कि भारत का बचाने के लिए अभी दिल्ली में जनता की सरकार की जरुरत है। रुपए से वोट नहीं खरीदे जाते। ममता ने अपील की कि कोई भाजपा से रुपए न ले। उन्होंने नोटबंदी के नाम पर जनता के रुपए की लूट की है। ममता ने कहा कि आयोग ने कहा था कि प्रचार में सेना के बारे में एक भी शब्द नहीं बोले जाएंगे। लेकिन वे क्या कर रहे हैं? देश पर जबरन दखल करने की कोशिश हो रही है। तृणमूल सुप्रीमो ने कहा कि लेकिन वे बंदुक के सामने भी खड़ा होकर लड़ने के लिए तैयार हैं। उन्होंने स्पष्ट किया कि बंगाल में एनआरसी लागू नहीं होने देंगीं। उन्होंने कहा कि असम में 23 लाख मुसलमान बंगालियों का नाम काटा है। हिंदुओं के नाम भी काटे गए हैं। चिटफंड के बारे में मोदी के बयान पर ममता ने कहा कि चिटफंड घोटाले की जांच हमने ही शुरू की। उन्होंने सवाल किया कि असम के डिप्टी सीएम ने शारदा से कितनी रकम ली है??ममता ने कहा कि एक व्यक्ति के लिए रास्ते बंद, आसमांन बंद। क्यों? क्योंकि उनका जनता संग कोई भी संपर्क नहीं है। जनता के रुपए से हैंगर लगा कर सभा कर रहे हैं। ये जनता के रुपए के भूखे हैं।

बहस की चुनौती : मोदी को खुली या टीवी पर बहस की चुनौती देते हुए ममता ने कहा कि अगर हिम्मत है तो टीवी पर बहस करें। या फिर सार्वजनिक स्थल पर बहस करें। वे उनके साथ कहीं भी बहस के लिए तैयार हैं। ममता ने कहा कि पहले कूचबिहार क्या था, यहां कुछ भी नहीं था। वे यहां बार-बार आई हैं। छिटमहल का समाधान किया है। जमीन की समस्या का समाधान किया है। ग्यारह सौ करोड़ रुपए खर्च कर छिटमहल का विकास कर रही हैं। फिर भी वे पूछते हैं कि क्या किया है? ममता ने पूछा कि आपने 5 साल में क्या किया है? गरीबों के लिए क्या किया? रोजाना झूठ मत बोलें। मोदी के आयुष्मान भारत के बारे में आरोप लगाने पर ममता ने कहा कि हमने स्वयं स्वास्थ्य साथी योजना शुरू की है जिसका पूरा प्रीमियम हम ही देते हैं। आयुष्मान भारत योजना रद्दी है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *