कोलकाता में दो समूहों के बीच झड़प के बाद तृणमूल-भाजपा में वाक युद्ध

कोलकाता : पश्चिम बंगाल में कोलकाता के खिदिरपुर-मोमीनपुर क्षेत्र में दो समूहों में झड़प के बाद सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) और विपक्षी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बीच वाकयुद्ध शुरू हो गया है। इस झड़प में कई लोग घायल हो गए।
भाजपा का दावा है कि पश्चिम बंगाल में कानून एवं व्यवस्था की स्थिति खराब हो गई है जिस पर सत्तारूढ़ दल ने कड़ी प्रतिक्रिया दी। तृणमूल ने आरोप लगाया कि भाजपा राज्य का माहौल बिगाड़ने की कोशिश कर रही है।
प्रदेश भाजपा प्रमुख सुकांत मजूमदार ने क्षेत्र में जाने की कोशिश की लेकिन उन्हें उत्तर कोलकाता के चिन्ग्रिघाट इलाके में रोक लिया गया और इलाके में दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के तहत निषेधात्मक आदेश लागू होने के चलते उनसे वापस जाने को कहा गया।
पुलिस के एक वरिष्ठ अफसर ने कहा कि उन्हें समझाया गया कि वहां निषेधात्मक आदेश लागू हैं लेकिन वह वहां जाने पर अड़े रहे।
उन्होंने बताया,‘‘ सुकांत मजूमदार को बाद में गिरफ्तार कर लिया गया और उन्हें लालबाज़ार पुलिस मुख्यालय लाया गया।”
पुलिस ने कहा कि खिदिरपुर-मोमीनपुर क्षेत्र में रविवार शाम स्थानीय मुद्दों को लेकर दो समूहों के बीच झड़प हो गई जिसमें कई लोग घायल हो गए। प्रदर्शनकारियों ने इकबालपुर थाने के बाहर भी प्रदर्शन किया।
इलाके में पुलिस और रैपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ) कर्मियों को तैनात कर दिया गया है।
विधानसभा में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी ने ट्विटर पर कहा कि उन्होंने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और राज्यपाल एल गणेशन को पत्र लिखकर आग्रह किया है कि बंगाल में कानून एवं व्यवस्था की स्थिति के हाथ से निकलने से पहले मोमीनपुर हिंसा और इकबालपुर थाने में तोड़फोड़ के मद्देनजर प्रभावित इलाके में केंद्रीय बलों की तत्काल तैनाती की जाए।
भाजपा पर राज्य का माहौल खराब करने का आरोप लगाते हुए तृणमूल के वरिष्ठ नेता सौगत राय ने कहा कि स्थिति को नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने सभी ज़रूरी कदम उठाए।
राय ने कहा, “ उपद्रवियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। सुकांत मजूमदार वहां जाकर घृणा भरे भाषण देने के अलावा क्या करेंगे? भाजपा राज्य के माहौल को खराब करने की कोशिश कर रही है। भाजपा को हर घटना का राजनीतिकरण करना बंद करना चाहिए।”
दोपहर बाद, अधिकारी ने मजूमदार की गिरफ्तारी के खिलाफ भाजपा का विरोध दर्ज कराने के लिए पश्चिम बंगाल विधानसभा से राजभवन तक मार्च निकाला।
अधिकारी ने कहा, “हम अपना विरोध दर्ज कराने के लिए राज्यपाल के पास आए थे। मुख्य विपक्षी दल के प्रदेश अध्यक्ष के साथ व्यवहार करने का यह तरीका है? राज्य सरकार स्थिति को नियंत्रित करने में पूरी तरह विफल रही है।”
पार्टी ने मध्य कोलकाता में अपने राज्य मुख्यालय से लालबाजार स्थित पुलिस मुख्यालय तक भी विरोध मार्च निकाला।
टीएमसी के प्रदेश महासचिव कुणाल घोष ने भाजपा पर राज्य में शांति को बाधित करने का आरोप लगाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *