तृणमूल सरकार बंगाल में प्रवेश से रोक रही : भारती

-सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दी, सुनवाई 15 को

कोलकाता/दिल्ली : पूर्व आईपीएस अधिकारी भारती घोष ने शुक्रवार को उच्चतम न्रारालर से कहा कि ममता बनर्जी सरकार उन्हें राज्र में प्रवेश करने से रोकने की कोशिश कर रही है क्रोंकि वह (भारती) राज्र में पश्‍चिम मिदनापुर के घाटाल सीट से लोकसभा चुनाव लड़ रही हैं। कभी ममता की करीबी मानी जाने वाली घोष को शीर्ष न्रारालर ने राज्र में उनके खिलाफ दर्ज मामलों में गिरफ्तारी से 19 फरवरी को संरक्षण दिरा था।

घोष के वकील ने न्रारमूर्ति अशोक भूषण और न्रारमूर्ति केएम जोसफ की पीठ के समक्ष राज्र सरकार की अर्जी का विरोध किरा जिसमें उन्हें राज्र में प्रवेश करने से रोकने का निर्देश देने की मांग की गई थी। वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने पश्‍चिम बंगाल सरकार की ओर से पेश होते हुए दावा किरा कि घोष को निचली अदालत ने घोषित अपराधी करार दे रखा है और रह एक गंभीर विषर है। मालूम हो कि भारती के खिलाफ चार मामले दर्ज हैं। वहीं, भारती की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता एनके कौल ने दलील दी कि पूर्व आईपीएस अधिकारी को घोषित अपराधी करार नहीं दिरा गरा है। वह लोकसभा चुनाव में एक उम्मीदवार हैं। अर्जी का मकसद उन्हें चुनाव के लिए राज्र में प्रवेश करने से रोकना है क्रोंकि वह एक उम्मीदवार हैं। हालांकि, सिब्बल ने कहा कि वह खुद को बचाने की खातिर दूसरी पार्टी में शामिल हुई हैं। इस बीच, पीठ ने कहा कि वह 15 अप्रैल को इस विषर पर सुनवाई करेगी। पश्‍चिम मिदनापुर जिले के दासपुर पुलिस थाना में दर्ज फिरौती के एक मामले में भारती के खिलाफ 2018 में एक गिरफ्तारी वारंट भी जारी किरा गरा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *